Ad

style="width:640px;height:100px;" alt="ads" /> ads

Breaking News

विधायक को जूते से मारने के बाद सांसद ने जताया खेद


संत कबीरनगर । जनपद के कलेक्ट्रेट में बुधवार को राज्य मंत्री आशुतोष टंडन की अगुआई में  जिला कार्ययोजना समिति की बैठक की गई । जिस दौरान शिलापट में नाम ना होने को लेकर भाजपा विधायक राकेश बघेल और भाजपा सांसद शरद त्रिपाठी में विवाद हो गया और सांसद ने गुस्से में आकर अपने ही पार्टी के विधायक की जमकर जूते से पिटाई कर दी, जबकि विधायक ने भी सांसद को कई तमाचे जड़ दिए। अब घटना का वीडियो वायरल होने के बाद भारतीय जनता पार्टी के सांसद शरद त्रिपाठी ने घटना पर खेद जताया है। साथ ही उन्होंने कहा कि अगर भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष उनको तलब करेंगे, तो वो अपना पक्ष रखेंगे। 

बतादे कि इस कार्यक्रम के दौरान संत कबीरनगर के जिलाधिकारी और योगी सरकार में मंत्री आशुतोष टंडन समेत कई अधिकारी भी मौजूद रहे। अब दोनों बीजेपी नेताओं के बीच हुई मारपीट और गाली गलौज का वीडियो सामने आया, तो सांसद त्रिपाठी ने खेद जताया। उन्होंने कहा, मैं इस घटना पर खेद जताता हूं और इसको लेकर मैं बहुत बुरा महसूस कर रहा हूं, जो भी हुआ वो मेरे सामान्य व्यवहार के खिलाफ था, अगर भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष ने मुझे तलब किया है, तो पूरे मामले मे मैं अपना पक्ष रखूंगा।

बताया जा रहा है कि शिलापट्ट पर सांसद महोदय का नाम नहीं था, इसी बात को लेकर सांसद शरद त्रिपाठी विधायक राकेश बघेल से भिड़ गए थे। मामले को लेकर पहले तनातनी हुई और फिर मारपीट शुरू हो गई, बीजेपी सांसद शरद त्रिपाठी ने फौरन जूता उतारा और अपनी ही पार्टी के विधायक राकेश बघेल के सिर पर बरसाने लगे। इतनी मामूली सी बात को लेकर हुई इस मारपीट इस घटना को देखकर वहां मौजूद लोग दंग रह गए।

वहीं, भारतीय जनता पार्टी के विधायक राकेश बघेल ने कहा कि केंद्र सरकार की योजना के शिलापट्ट पर सांसद का नाम होता है और राज्य सरकार की योजनाओं में शिलापट्ट पर विधायक का नाम होता है,  इसको लेकर कोई विवाद नहीं होना चाहिए, अगर इसके बावजूद कोई मतभेद थे, तो वो हमसे बैठकर बातचीत कर सकते थे।

No comments