Ad

style="width:640px;height:100px;" alt="ads" /> ads

Breaking News

प्रधानमंत्री आवास योजना में भारी घपला

 

सागर । जिले के शाहपुर नगर के समीप स्थित गांव गोरा खुर्द ग्राम पंचायत में प्रधानमंत्री आवास योजना में भारी घोटाले का मामला सामने आया है। ग्रामीणों  के मुताबिक 2011 के सर्वे के अनुसार जारी सूची में रोजगार सहायक और ग्राम सचिव के द्वारा मांगे गये पैसे नही देने पर सूची में नाम आने के बावजूद आवास नहीं दिया गया है। गांव के सरपंच संध्या पति जबाहर कुर्मी और सचिव हनुमत सिंह व रोजगार सहायक कमलेश जैन है।  ग्रामीणों ने बताया कि अगर सरपंच और सचिव द्वारा मांगी गई राशि दे दी जाती है तो बिना सूची में नाम आने के बावजूद भी आवास उपलब्ध करा दिया जाता है और जो पैसे नहीं देते उनसे कहते हैं आपका सूची में नाम नहीं आया है, जब आयगा तो बता देंगे। 

मामले का खुलासा उस वक्त हुआ जब गांव के गरीबदास वर्मा ने सूचना का अधिकार के तहत प्रधानमंत्री आवास की सूची प्राप्त की। सूची देखने के बाद लोग भौंचक्के हो गए, नाम आने के बावजूद भी लोगों के साथ  धोखा धडी की गई। वही इस ग्राम पंचायत को कलेक्टर द्वारा आवास में दिया गया टारगेट को पूरा करने पर पुरुस्कृत भी किया गया है। 

ग्रामीणों में अवधरानी पत्नी देवी सिंह, कलू पुत्र रामदयाल, विहारी पुत्र मिट्ठू, प्रमोद पुत्र मिट्ठू, कमलेश पुत्र बालचंद कुर्मी, देवी सिंह पुत्र भवूत सिंह ने बताया कि रोजगार सहायक, सचिव और सरपंच के पास आवास सूची में  नाम आने की बात को लेकर लोगों से पाँच हज़ार रूपये मांगे जाते थे, कहा जाता था इसके बाद ही आपका  नाम आवास योजना में आएगा अन्यथा नहीं आयेगा । जबकि  सचिव हनुमत सिंह  और सहायक सचिव कमलेश जैैैन पिछले  वर्ष वित्तीय अनियमितताओ के चलते सस्पेंड हो गये  थे। पिछले वर्ष वित्तीय अनियमितताऔ के चलते सचिव हनुमत सिंह  और सहायक सचिव कमलेश जैन  कलेक्टर द्वारा सस्पेंड कर दिये गये थे 

वही मामले को लेकर सहायक सचिव कमलेश जैन का कहना है कि जो सूची जनपद कार्यालय से आयी थी वही सूची गरीब दास को सूचना के अधिकार के तहत दी गई थी और उसी के अनुसार आवास आवंटित किये गये इस सब गडबडी के लिये जनपद कार्यालय के अधिकारी जिम्मेदार है।
वही सचिव हनुमत सिंह का कहना है कि मै इसमें कुछ नहीं जानता सब रोजगार सहायक कमलेश जैन ही बता सकते हैं। 
...रिपोर्ट : हेमंत आठिया,सागर।   

No comments