Ad

ads ads

Breaking News

असोहा पुलिस नहीं कर पा रही लूट का खुलासा

...रिपोर्ट - रत्नम चौरसिया, एडवोकेट
पुरवा/उन्नाव।  असोहा थाना क्षेत्र अंतर्गत लगभग 48 घण्टे पूर्व सर्राफा व्यवसायी से हुई लूट की घटना का अभी तक खुलासा नहीं हो पाया है। इसके पहले भी बदमाशों ने उपरोक्त व्यवसायी को अपना निशाना बनाया था।
प्राप्त जानकारी के अनुसार पहली घटना वर्ष 2007 में उस वक्त घटी जब  घर जाते समय चंद्र प्रकाश के छोटे भाई कल्लू से बदमाशों ने लूटपाट की थी। वर्ष 2009  में पुनः बदमाशों ने उसी स्थान पर चंद्र प्रकाश को रोक कर लूटपाट की थी। लेकिन घटना की जानकारी होते ही पुलिस और पब्लिक ने बदमाशों का पीछा कर दरसवां गोसाईखेड़ा गांव के मध्य एक मुठभेड़ में जनता के सहयोग से एक बदमाश मनोज को मार गिराया था। वहीं दो अन्य बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया था। इतना ही नहीं कुछ समय पहले फिर एक बार लुटेरों ने कालूखेड़ा से दुकान बंद कर अपने गांव पिपरी जा रहे बबलू को बदमाशों ने लूटपाट कर गोली मारकर हत्या कर दी थी। 2 दिन पूर्व भी शाम को ही चार पहिया वाहन सवार लुटेरों ने गांव से मात्र चंद कदम दूर घटना को अंजाम देते हुए फरार हो गए। लाख कोशिशों के बाद भी अभी तक असोहा पुलिस के हाथ बदमाशों तक नहीं पहुंच सके हैं। स्थानीय प्रशासन के साथ साथ प्रदेश सरकार के लिए कानून व्यवस्था को दुरुस्त करने की कड़ी चुनौती है। नवागत असोहा थाना प्रभारी संतोष सिंह के लिए इस घटना का खुलासा करना एक जटिल समस्या से कम नहीं है। इस सम्बन्ध में जब थाना अध्यक्ष असोहा संतोष सिंह से मोबाइल फोन पर सम्पर्क किया गया तो बात नहीं हो पाई।

No comments