Ad

ads ads

Breaking News

स्वास्थ्य विभाग की टीम देख झोलाछाप डांक्टरों में मची खलबली

  सागर बंडा/बहरोल । बुधवार को झोलाछाप डॉक्टर क्लीनिक बंद कर गायब दिखे। क्योंकि ग्रामवासियों द्वारा सीएम हेल्पलाइन में कई बार शिकायत के बाद स्वास्थ्य विभाग के एसएमओ डॉ. एम एल जैन ने जांच टीम गठित कर ग्राम बहरोल पहुंचकर अवैध तरीके से संचालित क्लीनिको पर छापा मार कार्रवाई की। डर के चलते कई जगह ताला डला मिला । कई डॉक्टर ऐसे भी हैं, जो अपनी क्लीनिक के आसपास मंडराते दिखे। और मरीज आते ही उन्हें घर पहुंचा कर इलाज की सेवा प्रदान की। झोलाछाप डॉक्टरों पर कार्रवाई करने के लिए जांच टीम बनाई गई। अभी तक तो स्वास्थ्य टीम द्वारा एक भी बार कार्रवाई देखने नही मिली। मंगलवार को केवल एक दुकान पर कार्रवाई कर अवैध क्लीनिकों में सीलबंदी की गई। वही  दौरान कई डॉक्टर कार्रवाई से बचने के लिए अपना गांव-छोडकर आस-पास गाँव में दिखे।
तो वही दूसरी ओर कई डॉक्टर क्लीनिक के बजाय घरों में जाकर इलाज करते नजर आये। बताया जाता है कि सख्ती से रहम की उम्मीद में झोलाछाप डॉक्टर राजनीतिक पहुंच वाले लोगों से संपर्क करते भी दिखाई दिए हैं। ताकि कार्रवाई रुक जाए और इलाज का काम शुरू हो जाए। वहीं कुछ जगहों पर कार्रवाई में भेदभाव के आरोप लगे क्योंकि कुछ डॉक्टरों को नजर-अंदाज कर दिया गया है। बिना डिग्री के लोगों की सेहत से खिलवाड़ करने वाले डॉक्टर अब प्रशासन की कार्रवाई से बेनकाब हो गए हैं। अब तक स्वास्थ्य विभाग के सुस्त रवैये से अपनी डॉक्टरी करते आ रहे थे।
डॉ. एम एल जैन ने बताया कि ग्रामीणों द्वारा सीएम हेल्पलाइन पर क्षेत्र में अवैध क्लिनिकों की कई बार शिकायते मिली जिसपर कार्यवाही करते हुए बहरोल में एक क्लीनिक को सील किया गया  है।

डां मनोज यादव निजी क्लीनिक संचालक बहरोल का कहना है कि मै एक डिग्रीधारी डांक्टर हूं जिसके बावजूद भी स्वास्थ्य विभाग ने ग्रामीणों की शिकायत पर मेरी क्लीनिक पर कार्रवाई की हैै।
...रिपोर्ट - हेमंत आठिया, सागर मध्यप्रदेश। 

No comments