Ad

style="width:640px;height:100px;" alt="ads" /> ads

Breaking News

चाइनीज एप द्वारा सुरक्षा प्रणाली पर सेंध का खतरा

डेस्क। आज जिस प्रकार लगातार सोशल मीडिया दुनिया हम प्रभावित करती जा रही है, उसी प्रकार हमारें सुरक्षा पर भी वह सेंध लगा सकती है। यह सोंचना भी किसी हद तक उचित भी है। ऐसी ही आंशका राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की आर्थिक इकाई स्वदेशी जागरण मंच ने देश के प्रधानमंत्री के नाम चिट्ठी में आंशका जाहिर की है। चिट्ठी में टिक टाक जैसे चाइनीज एप और टेलीकॉम कंपनियों पर प्रतिबंध लगा देने की बात की है।
दरअसल, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ आर्थिक इकाई स्वदेशी जागरण मंच ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखी है। इसमें चीन के एप और अन्य कंपनियों पर भारत में प्रतिबंध लगाने की मांग की गई है. एसजेएम ने इन्हें देश की सुरक्षा, कारोबार और समाज के लिए खतरनाक बताया गया है।
एसजेएम ने यह मांग पुलवामा में जैश-ए-मुहम्मद के आतंकी हमले के कुछ ही दिन बाद की है। चीन लगातार जैश के सरगना मसूद अजहर का नाम संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की वैश्विक आतंकियों की सूची में शामिल कराने की भारत की कोशिशों में अड़ंगा लगाता रहा है। मंच ने प्रधानमंत्री को लिखे पत्र में कहा है, कि ’’पुलवामा में सीआरपीएफ पर आतंकी हमले ने देश को काफी चोट पहुंचाई है। ऐसे समय में सभी भारतीयों का कर्तव्य है कि वे ऐसे आतंकियों का समर्थन करने वाले किसी देश या शख्स को आर्थिक चोट पहुंचाएं। मंच की चिंता निराधार नहीं है।
टिक टाक क्वाई, लाइक जैसे एप का लाखों भारतीय इस्तेमाल करते हैं। वहीं वे इस दौरान लगातार वीडियो शेयर करते हैं। ये वीडियों खासकर सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर सीधे शेयर किये जाते है। पिछले नवंबर में ईटी ने पाया था कि 20 से अधिक चीनी वीडियो एप देश के मोबाइल एंटरटेनमेंट जगत में काफी लोकप्रिय हो चुके हैं।

No comments