Ad

ads ads

Breaking News

जीएसटी का 800करोड़ का फर्जीवाड़े का हुआ खुलासा, हडकंप

डेस्क। बिहार में जीएसटी को लेकर एक बड़ा फर्जीवाड़े के खुलासे के बाद हड़कंप मच गया। यह भंडाफोड़ जीएसटी इंटेलिजेंस विंग ने राज्य में बड़ा आपेरशन कर खुलासा किया है। इस खुलासे में उसने 800 करोड़ रुपये के जीएसटी फर्जीवाड़े का भंडाफोड़ किया है। बताया जा रहा है कि यह फर्जीवाड़ा कंपनियों के रजिस्ट्रेशन से खेल शुरू हुआ था। इसके तहत बिना सामान के वास्तविक सप्लाई के इनवॉयस जारी किया जाता था। फिर तीन-चार फर्जी लेयर बनाकर इस कड़ी की अगली कंपनियों द्वारा फर्जी इनवॉयस पर करोड़ों का इनपुट टैक्स क्रेडिट ले लिया जाता था। इस तरह से सरकार को करोड़ों के राजस्व की क्षति पहुंचाई जा रही थी। सूत्रों के अनुसार इसमें पांच कंपनियों को शामिल बताया जा रहा है।
जीएसटी इंटेलिजेंस, पटना जोनल इकाई द्वारा यह अब तक की बिहार के सबसे बड़ी कर चोरी पकड़े जाने का मामला प्रकाश में आया है। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि इसके लिए छपरा, दिल्ली व कोलकाता में छापेमारी की गई। छपरा की दो कंपनियों ने सारा स्क्रैप दिल्ली भेजा। पुनः दिल्ली की दो कंपनियों ने करोड़ों के स्क्रैप को फर्जी कागजात द्वारा कोलकाता के सेंट्रलाइज मर्चेंट को बेच दिया था। वहीं इस दौरान छपरा की दोनों कंपनियों के मालिक कोलकाता निवासी दिखे और उनके बैंक खाते भी वहीं के पाए गए। जिससे वे शक के दायरें मे आ गए। वहीं कथित व्यापारियों द्वारा ई-वे बिल सिस्टम में स्क्रैप की बिक्री को जिन ट्रकों से भेजा गया, रैंडम जांच में कई वाहनों के निबंधन फर्जी पाए गए। स्क्रैप की बिक्री छपरा से दिल्ली और पुनरू दिल्ली से कोलकाता तक व्यापारिक सुलभता, आर्थिक लाभ, इस ट्रेड नियमों के प्रतिकूल पाए गए। जिसके बाद जांच शुरू हुई। जांच के क्रम में कई व्यक्तियों से पूछताछ की गई तो पांच कंपनियों के खिलाफ 800 करोड़ के फर्जीवाड़े और 140 करोड़ के इनपुट टैक्स क्रेडिट का गलत और गैरकानूनी उपयोग का खुलासा हो सका। वही सूत्रों के माने तो अभी बड़ी मछली पकड़ से बाहर है।

No comments