Ad

ads ads

Breaking News

चोंक नालियों से तालाब बना गाॅव, खंड़जे से ईट गायब

उन्नाव। विकास खंड नवाबगंज के क्षेत्र अंतर्गत खैलामऊ गाँव के तीन बार से ग्राम प्रधान बन रहे राम प्रताप यादव, जिसमें एक बार उनकी माता कुवारा देवी भी प्रधान पद संभाल चुकी है। इसके बाद भी पूरे गाॅव का विकास कार्य मात्र कागजी स्तर पर ही होता आ रहा है। पूरे गाॅव की जमीनी हालात इस कदर खराब है कि पैदल भी गाॅव के अंदर से निकलना दुष्वार हो चला है। बात सड़कों की हों या फिर नालियों की वहाॅ के हालत इस कदर खस्ताहाल है कि कहीं पर दो दशक पूर्व लगे खड़ंजे की ईट तक गायब हो चुकी है। नालियाॅ जगह-जगह चोंक हो चुकी है। कई जगह तो सड़क ही नाली के पानी से अटी मिल जाएगी। वहाॅ पर ग्रामीणों को निकलना किसी सर्कस में काम करने के बराबर होता है।
पूरे गाॅव में एक हजार से अधिक मतदाता है। वहीं कुल आबादी में लगभग पाॅच सौ के आसपास (कच्चे व पक्के दोंनों घरों को मिला कर) घर बने हुए है। ग्रामीणों ने कई बार प्रधान से स्थानीय समस्या पर जोर देते हुए उसके निस्तारण की बात भी की, पर हमेंशा की तरह प्रधान का टालू रवैया बना रहता है। ग्रामीणों ने बताया कि यूॅ तो विधायक से लेकर सांसद तक गांव की सीमा चुनाव के दौरान छू चुकें है। जिसमें उन्होने गांव के समुचित विकास का वादा भी किया। लेकिन समय के साथ सब हवा हवाई हो गया है।
संक्रामक रोगों का रहता है खतरा
गांव के अन्दर से पानी की निकास व्यवस्था उचित न होने के चलते गंदे पानी का भराव लगातार बना ही रहता है। ग्रामीणों  ने व्यक्तिगत स्तर पर भी समस्या के  हल का प्रयास किया। लेकिन समस्या का निदान नही हो सका। ग्रामीणों में नरपति, पप्पू, शीलू, दीपू, पूती, धनीराम आदि ने समस्या पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए ग्राम प्रधान की लापरवाही पर आक्रोश व्यक्त किया।
...रिपोर्ट : रजत द्विवेदी, सोहरामऊ।  

No comments