Ad

ads ads

Breaking News

बैंकों की आज दूसरे दिन रही हड़ताल, करोंड़ों की बाजार को लगा चूना

उन्नाव। आॅल इंडिया बैंक इम्प्लाईज एसोसिएशन बैंक एम्प्लाईज फैडरेशन आॅफ इंडिया के आहृवान पर जनपद की सभी बैंक कर्मियों ने आज दूसरे दिन भी हड़ताल जारी रखी। इसी बीच राज्यसभा में बैंक कर्मियों की समस्याओं लेकर चर्चा की गई। शहर की पंजाब नेशनल बैंक परिसर में आयोजित सभी बैंक कर्मी आज सुबह ही जुट गए थे। शहरी व ग्रामीण बैंकों के कर्मियों ने सरकार के विरोध में नारे लगाना शुरू कर, अपना विरोध शुरू कर दिया। कर्मियों की अध्यक्षता कर रहे बीडी सिंह ने बताया कि दो दिन से चल रही हड़ताल का दूसरा व अतिंम दिन है। हमारी हड़ताल सार्वभौम तौर पर केन्द्रीय श्रम संगठनों तथा विभिन्न स्वंतत्र श्रेत्रवार श्रम संगठन फैडरेशनों के राष्ट्रीय श्रम संगठन सम्मेलन द्वारा आहृवान है। उन्होने विरोध के तोर पर बताया कि उनका विरोध केंन्द्र सरकार जन विरोधी आर्थिक नीतियों तथा मजदूर विरोधी श्रम नीतियों का है। वे प्रतिगामी बैंकिग सुधार उपाय निजीकरण और विलय, ऋण को वसूल  न करने का व बैंकों में स्थाई कार्यो की आउटसोर्सिग का भरकस विरोध करते है। वहीं उन्होने विरोध करते हुए माॅग की कि सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों को सुदृढ़ करने व बैंकों में पर्याप्त भर्ती हो।
अध्यक्ष बीडी सिंह ने बताया कि उन्होने बीते माह 10 दिसंबर को वित्र मंत्री को मामले को लेकर पत्र लिख कर जानकारी दी थी। जिसके बाद भी कोई कारवाई आज तक नहीं हुई है। जिलें की सभी बैंकों, व वित्तीय संस्थानों, मजदूर संगठनों द्वारा पूर्णरूप से हड़ताल रखी। ग्रामीण बैंकों व सार्वजनिक क्षेत्र के निजीकरण का विरोध कर रहे बैंक कर्मी अस्थाई कर्मियों को नियमित करने किए जाने की मांग उठा रहे थे। वहीं ग्रामीण बैंकों के पेंशन समानता के सर्वोच्च न्यायाल के निर्णय को लागू करने की बात कहीं। इस दौरान जनपद के विभिन्न बैंकों से विनोद शुक्ला, गौरव शुक्ला, सत्यजीत सिंह, आर के मिश्र, बीबी सिंह, बुधवीर सिंह, उदय रामू, रवि मल्होत्रा, जगदीश, सुरेश बाजपेई, फतेह सिंह, कुंवर सिंह अमृत लाल, सुरेश बाजपेई, राजेश कुमार, आदि एक सैकड़ा से अधिक बैक कर्मी हड़ताल में शामिल हुए।

No comments