Ad

ads ads

Breaking News

वाह री पुलिस-बलात्कार अपराधियों पर लगा मामूली धारा, पीड़ितों को किया चलता

बांगरमऊ/उन्नाव। यूॅ तो बांगरमऊ पुलिस कुछ न कुछ करिश्मा करती ही रहती है। लेकिन इस बार पीड़ित पर ही अत्याचारों की इति ही कर दी। जिसके बाद जिसने भी मामला जाना, वह पुलिस को कोसता ही नजर आया।
क्या है मामला
पीड़ित द्वारा दिया गये प्रार्थना पत्र को अनदेखा कर पुलिस कर्मियों ने जबरन उसे डरा धमका कर उससे  दूसरा प्रार्थना पत्र थाना परिसर में ही लिखा लिया। तथा बलात्कार जैसे संगीन आरोपों वाले मामले को मारपीट जैसी मामूली धाराओं रिपोर्ट दर्ज कर ली। मामले की जानकारी मिलने के बाद जब पीड़ित ने विरोध दर्ज कराना चाहा, तो जिम्मेदारों ने टाल मटोल करते हुए उसे चलता कर दिया। 
मामलो को लेकर हालांकि जन प्रतिनिधियों की ओर से कोई प्रतिक्रिया नही आई है। वहीं पुलिस का कलुषित चेहरा योगी के जन हितों की रक्षा के लिए पुलिस को दिए आदेशो की खुली अवहेलना करते साफ दिखाई पड़ रहा है।
अनियंत्रित डम्फर ने लखनऊ कानपुर राजमार्ग को पार कर रही महिला को टक्कर मार दी।......
बलात्कार की जगह मात्र लात घुसो की मारपीट में अंकित की रिपोर्ट
बांगरमऊ कस्बे के निवासी चंद्रप्रकाश पुत्र राजाराम ने रिपोर्टर से अपनी व्यथा बताते हुए बताया कि मेरी पुत्री मंदबुद्धि है और मेरी पुत्री के साथ पड़ोस के रहने वाले रमेश उम्र लगभग 55 वर्ष ने लगातार कई बार कई दिनों तक बलात्कार किया। इसी बीच जब इसकी जानकारी पुत्री द्वारा उसे मिली तो वे पहले से विश्वास ही नहीं कर सकें। उन्होने मामले को लेकर जब खुद रमेश के पास गए। और समझाते हुए जैसे ही यह कहा कि उसे अपनी उम्र का भी ध्यान ना रखते हुए इतनी गंदी हरकत क्यों की। तो वह इतना सुनते ही बिफर पड़ा।  रमेश व उसके पुत्र ने पीड़ित व उसकी पुत्री को बुरी तरह लात घुसो डंडों से पिटाई कर दी। जिस पर किसी तरह से बच कर इसकी शिकायत लेकर जब थाना कोतवाली बांगरमऊ पहुंचा तो पुलिस ने उसका प्रार्थना पत्र ना लेकर  थाना परिसर में ही दूसरा प्रार्थना पत्र मारपीट का लिखवाया और उसकी एनसीआर मामूली धाराओं में दर्ज  कर दी।  पीड़ित द्वारा  न्याय न मिलता देख पिता अपनी पुत्री को लेकर पुलिस कप्तान की चौखट पर पहुंचा जहां उसे सिर्फ आश्वासन रूपी मायूसी ही मिली। जिसके बाद पीड़ित अपनी 12 वर्षीय पुत्री के साथ  लेकर न्याय के लिए दर दर की ठोकरें खाता घूम रहा है।
...रिपोर्ट:रियाजुल हसन,बांगरमऊ।