Ad

ads ads

Breaking News

बच्चों के हाथ से गीली मिट्टी छीन, जलाया तो गीली मिट्टी भभक कर जल उठी...

लखीमपुर खीरी। जनपद के मोहम्मदी थाना क्षेत्र बरैचा गांव मेंं अवैध रूप से बायोडीजल के कारोबार की जानकारी प्राप्त हुई है। यह मामला तब खुला जब स्थानीयं गांव के कुछ बच्चे खेल के दौरान एक भवन में घुस गए। भवन में अजीब सी गंध आ रही थी। वहीं एक एक जगह से बच्चों ने केमिकल के रिसाव से बने दलदली जगह से गीली मिट्टी उठा कर घर ले गए। इसी दौरान बच्चों के परिजनों को बच्चों के हाथों से डीजल की महक लगी तो उन्होने उनके पास से गीली मिट्टी छीन ली। गीली मिट्टी में डीजल के होने की आंशका भांप उन्होने उस पर आग लगा कर चेक करना चाहा तो वह भभक कर जल उठी। जिसके बाद ग्रामीण सकते में आ गए। उन्होने आनन फानन पुलिस को मामले की सूचना दी। जिसके बाद मामले की जानकारी पुलिस को दी। जिसके बाद पुलिस ने भवन को घेर लिया, और छानबीन शुरू कर दी।
सूत्रों की माने तो मोहम्मदी क्षेत्र बरैचा गांव के शाहजहांपुर मार्ग के किनारे एक भवन जिसमें बायोडीजल का व्यवसाय काफी समय से बड़े जोरो से चल रहा था। ग्रामीणों ने बताया की व भवन के पास से जब भी निकलते थे तब उन्हे डीजल की गंध लगती थी, लेकिन उनके पास इस विषय में अधिक जानकारी नहीं थी। स्थल का मौका मुआयना कर रहे संजीव कुमार तोमर, निखिल त्यागी कांस्टेबल ने बाउंड्री के ऊपर चढ़कर अंदर झांक कर देखा। तो उन्हे दो टैंकर खड़े मिले। जिन पर टॉपर कैमरा लगे हुए थे। काफी छानबीन के बाद उन्होने अप जिला अधिकारी डीडी वर्मा मामले की जानकारी दी। इसी बीच विभागीय जानकारी पर पता चला कि यह भवन किसी शहजहापुर के व्यक्ति का है। हालाकि मौके पर कोई नहीं आया था। जिसके बाद छानबीन कर रहे संजीव कुमार तोमर ने जिलाधिकारी शैलेंद्र कुमार से बात की। जिस पर उन्होंने हालात पर संजीदा होते हुए अपरजिला अधिकारी बीडी वर्मा को भेज मामले की छानबीन करने की बात कही । जहॉ अपरजिला अधिकारी बीडी वर्मा ने मौके पर देखा कि वहॉ पर ताला पड़ा हुआ था। वहीं भवन के आसपास कोई व्यक्ति नहीं मिला। इस दौरान गहन छानबीन से भवन के स्वामी का पता चल सका। जिससे फोन पर बात की तो पता चला कि वह इस समय लखनऊ में हैं। जिस पर अपर जिलाधिकारी ने डपट लगाते हुए कहा कि जल्द से जल्द आ भवन का लाइसेंस चेक कराएं। अन्यथा वे इसे सीज कर देंगे। जिसके बाद अपरजिला अधिकारी बीडी वर्मा ने ताले मंगवा कर गेट पर डलवा दिए। इस दौरान थाना कोतवाली संजीव कुमार तोमर, निखिल त्यागी आदि मौके पर मौजूद रहे। वहीं मामले को लेकर अप जिला अधिकारी से जानकारी लेनी चाही तो उन्होने मामले को लेकर अभी छानबीन चलने की बात कही। वहीं सूत्रों की माने तो लाइसेंस होकर भी जिस प्रकार से बायोडीजल का काम बेहद लापरवाही से चल रहा था, बेहद चिंताजनक है।
---रिपोर्ट- हरिओम सिंह

No comments