Ad

ads ads

Breaking News

दंबगों ने कब्जाया गाॅव का मुख्य मार्ग, आक्रोश व्याप्त

लखीमपुर खीरी। जनपद के थाना क्षेत्र मोहम्मदी के बुझारी गाॅव में दबंगों ने गांव के मुख्य मार्ग पर अवैध कब्जा कर मार्ग बंद कर दिया। मामले को लेकर ग्रामीणों ने अपर जिलाधिकारी को शिकायत की, तब जाकर मामला निस्तारण हो पाया। मामले को लेकर एक अपराधी के खिलाफ मुकदमा भी दर्ज कर लिया संबधित कर्मियांे को दी। लेकिन संबधित अधिकारी ने फर्जीवाड़ा कर गलत आख्या प्रेश कर दी। जिससे ग्रामीणों में आक्रोश व्याप्त हो गया है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार गाॅव के चक मार्ग रहता के रूप में ग्रामीणों के लिए प्रमुख मार्ग होने के चलते ग्रामवासियों के आवागमन का प्रमुख मार्ग माना जाता है। इसी बीच भू माफिया एजेंट सिंह बेटे अनमोल सिंह के जरिए उस पर अवैध कब्जा कर पूरी तरह से बंद कर दिया गया। ग्रामीणों ने मामले की शिकायत अप जिला अधिकारी डीडी वर्मा को करते हुए प्रार्थना पत्र दिया। जिस पर बीते वर्ष की दिनांक 21-7-2018 को लेखपाल धरूपकुमार राही को आदेश दे जांच कर आख्या पेश करने की बात की। वहीं  धरूपकुमार राही ने फर्जीवाड़े तरीके से आख्या पेश की। उसके बाद में 16-8-218 दीवानी न्यायालय में मुकदमा दर्ज किया। जिस पर कोर्ट ने आवागमन मार्ग अबोध करने या प्रतिबंधित करने की प्रार्थना की गई थी। इसमें अभय पक्ष को आदेश दिया गया कि आवागमन मार्ग या वाहन लेने ले जाने कोई प्रतिबंध नहीं करेगा। वहीं ग्रामीणों से यथास्थिति कायम रखने की बात कहीं गई है। वहीं थाना कोतवाली मोहम्मदी में भी दंबगों के खिलाफ प्रार्थना पत्र दिया जिस पर कोई कार्रवाई अब तक नहीं की जा सकी है।
बताते चले कि  मार्ग की गाटा संख्या 110 खादी भरे गड्ढे गाटा संख्या 109 ग्राम समाज आबादी नंबर 111 व 107 जोकि भूमाफिया एजेंट सिंह ने अपने खेत में जोडकर अनाज पैदा करते हैं। ग्रामीणांे ने समाधान दिवस में भी मामले को लेकर ओ पी मिश्रा नायब तहसीलदार से बात की। जिस पर उन्होने आदेश दिया दिनांक-15-9-2018 को पुलिस बल के साथ कार्रवाई करें। लेकिन वह भी आदेश ठंडे बस्ते पर चला गया। अभी तक उस पर भी कोई कार्रवाई नहीं की गई।  इस अप जिला अधिकारी बी डी बर्मा को प्रार्थना पत्र दिया उन्होंने नायब तहसीलदार ओ पी मिश्रा से कहा एक टीम तैयार कर कार्रवाई करने को कहा उस पर भी कोई कार्रवाई नहीं की गई। भू माफिया एजेंट सिंह बेटे अनमोल सिंह व अन्य पर शिकायत 1076 पर फोन द्वारा की गई। उस पर भी कोई कार्रवाई नहीं की गई है। अधिकारियों के आदेश शिर्फ कागजों तक ही सीमित रह गये है।  गांव के अशोक सिंह नेत्रपाल वीरेंद्र अंग पाल रतिश सतीश चंद्रभान संतोष बलराम नारायण सिंह राज किशोर सिंह आदि ने अपना आक्रोश व्यक्त करते हुए बताया कि यह रास्ता बन्द होने के चलते पूरे ग्रामवासियों को करीब डेढ़-दो किलोमीटर घूमकर आना जाना पड़ता है। जिससे किसी ग्रामीण के बीमार होने व अन्य आपदा के समय तो ग्रामीणों को बेहद दुश्वारियों का सामना करना पड़ जाता है।  वहीं  गांव में किसी भी समय अप्रिय घटना घटने की संभावना बनी रहती है। ग्रामीणांे ने बताया कि  आवागमन मार्ग नहीं खुलवाया गया उस पर कोई अप्रिय घटना घटी तो जवाबदेही शासन की होगी।
...रिपोर्ट-हरिओम सिंह