Ad

ads ads

Breaking News

15वें प्रवासी भारतीय दिवस में पहुंचे प्रधानमंत्री, किया सम्बोधित

डेस्क। वाराणसी में आयोजित 15वें प्रवासी भारतीय दिवस में प्रधानमंत्री नरेन्द्रमोदी ने पहुंच प्रवासी भारतीयों का स्वागत किया। उनके साथ इस दौरान उनके साथ मॉरीशस के प्रधानमंत्री प्रविंद जगन्नाथ भी हैं।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अप्रवासियों को दिए गए उद्बोधन में कहा कि आप सभी के सहयोग से बीते साढ़े चार वर्ष में भारत ने दुनिया में अपना स्वभाविक स्थान पाने की दिशा में एक बड़ा कदम बढ़ाया है। पहले लोग कहते थे कि भारत बदल नहीं सकता। हमने इस सोच को ही बदल दिया है। हमने बदलाव करके दिखाया है।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत को दुनिया की तेज़ी से बढ़ती आर्थिक ताकत बताते हुए कहा कि खेल जगत में भी हम बड़ी शक्ति बनने की तरफ निकल पड़े हैं। उन्होने भ्रष्टाचार के रोकथाम को लेकर किए जा रहे प्रयासों के बारे  में बताते हुए कहा कि हमने टेक्नोल़ॉजी का इस्तेमाल करके इस 85 प्रतिशत की लूट को 100 प्रतिशत खत्म कर दिया है। साढ़े चार वर्षों में 5 लाख 78 हजार करोड़ रुपए यानि करीब-करीब 80 बिलियन डॉलर हमारी सरकार ने अलग-अलग योजनाओं के तहत सीधे लोगों को दिए हैं, उनके बैंक खाते में ट्रांसफर किए हैं। आज भारत अनेक मामलों में दुनिया का अगुवाई करने के लिए तैयार है। हम ऐसे संसाधन तैयार कर रहे हैं जिससे अनेक देशों की समस्या दूर हो सकती हैं। आज इंफ्रास्ट्रक्चर के मामले में बढ़ रहे हैं तो स्पेस में भी बड़ी सफलता पा रहे हैं।
प्रधानमंत्री मोदी ने अप्रवासियों को संबोधित करते हुए कहा कि मैं इस मंच पर पहले भी कह चुका हूं, आज फिर दोहराना चाहता हूं कि आप जिस भी देश में रहते हैं, वहां से अपने आसपास के कम से कम 5 परिवारों को भारत आने के लिए प्रेरित करिए। आपका प्रयास देश में टूरिज्म बढ़ाने में अहम भूमिका निभाएगा। पासपोर्ट के साथ-साथ वीज़ा से जुड़े नियमों को भी सरल किया जा रहा है। उन्होने प्रवासियों के लिए दूतावास को सेवाओ से जोड़े जाने से होने वाले लाभ भी गिनाए। उन्होने जल्द ही ई पासपोर्ट जारी होने की बात कही। इससे समय की बचत भी होगी।
उन्होने बताया कि दुनियाभर में बसे भारतीयों से संवाद का अभियान हम सभी के प्रिय श्रद्धेय अटल बिहारी वाजपेयी जी ने शुरु किया था। अटल जी के जाने के बाद पहला प्रवासी भारतीय सम्मेलन है। इस अवसर पर मैं अटल जी को भी श्रद्धा सुमन अर्पित करता हूं, उनकी इस विराट सोच के लिए नमन करता हूं। पुर्तगाल, त्रिनिदाद-टोबैगो और आयरलैंड जैसे अनेक देशों को भी ऐसे सक्षम लोगों का नेतृत्व मिला है जिनकी जड़ें भारत में हैं। आप सभी जिस देश में बसे हैं, वहां समाज के लगभग हर क्षेत्र में लीडरशिप के रोल में दिखते हैं। मॉरिशस को प्रविंद जुगनाथ जी पूरे समर्पण के साथ आगे बढ़ा रहे हैं।
मॉरीशस के प्रधानमंत्री प्रविंद्र जगन्नाथ ने समारोह में सभी का स्वागत हिंदी में किया। उन्होंने सभी का आभार जताते हुए कहा कि वे संस्कृति की गोद में हैं और यहां से गंगा जी का आशीर्वाद लेकर अपने अपने देश जायेंगे।
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस अवसर पर पीएम नरेंद्र मोदी के साथ ही मॉरीशस के पीएम प्रवींद जगन्नाथ का स्वागत किया। उन्होंने प्रधानंमत्री नरेंद्र मोदी का आभार जताया। सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि पीएम मोदी के प्रयास से ही उत्तर प्रदेश में प्रवासी भारतीय दिवस का आयोजन किया जा रहा है। इस मौके पर उन्होंने वाराणसी के साथ ही प्रयागराज के कुंभ के महत्व पर प्रकाश डाला।
विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने सभी का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि प्रवासी दिवस के जन्मदाता अटल जी की स्मृति का भी समय है। यह दिवस उन्ही की देन है। 2004 से 2014 के बीच दिवस का महत्व घटता चला गया था। पीएम मोदी ने ने इस दिवस की गरिमा बढ़ाने के साथ इसमें जान भी फूंक दी। उन्होंने भारतवंशियों से सीधा संवाद का प्रयास किया। सुषमा स्वराज ने पिछली सरकार पर प्रवासी दिवस की उपेक्षा का आरोप लगाया।सुषमा स्वराज ने पीएम मोदी को सम्बोधित करते हुये कहा कि आप यहां आज दो भूमिका में हैं। पहली प्रधानमंत्री की दूसरी, बनारस के सांसद की। काशी वासियों ने इस प्रवासी भारतीय दिवस को अपने उत्साह और आतिथ्य से काशीमय कर दिया है।

29 जनवरी मन की बात में प्रधानमंत्री करेंगे बच्चों से संवाद
पीएम मोदी ने कहा कि वे व्यक्तिगत रूप से पिछले एक दो साल से मन की बात कार्यक्रम कर रहे हैं। मार्च का महीना परीक्षा का महीना होता है। हर घर में तनाव का माहौल होता है। उनकी हमेशा कोशिश रहती है कि सभी बच्चों से उनके परिजनों, शिक्षकों से वे संवाद कर सके। उन्हे खुशी होगी कि इस 29 जनवरी को में देश और दुनिया के बच्चों से नरेंद्र मोदी ऐप के जरिए करोड़ो परिवार के साथ एक्जाम वॉरियर के संबंध में संवाद करने वाले होगें। ज्ञात हो कि 29 जनवरी सुबह 11 बजे ये कार्यक्रम होना है।

No comments