Ad

ads ads

Breaking News

जिला प्रशासन के मौन से, योगी सरकार की धूमिल हो रही छवि



उन्नाव। सफीपुर तहसील की ग्रामसभा सैंता के निकट बांगरमऊ-लखनऊ राजमार्ग को जोड़ने वाली सड़क पर तकिया चौराहे से लगभग 500 मीटर की दूरी पर पडने वाली भूमि संख्या 525 व 542  तालाब के नाम पर कई वर्षो से दर्ज है, इसकी जानकारी शासन-प्रशासन को होने के बावजूद भी उपरोक्त जमीन पर धड़ल्ले से अवैध निर्माण किया जा रहा है। हाल ही में भूमि संख्या 542 पर दो मंजिला इमारत बनकर तैयार हो गई है, ग्रामीणों  का मानना है कि शासन-प्रसाशन की मिलीभगत के चलते भूमाफियाओं पर कोई कार्यवाही नहीं की जा रही है, जबकि ग्रामीण लगातर इसकी शिकायत तहसील प्रशासन से लेकर उच्चाधिकारियों तक करते आ रहे है क्षेत्रवासियों द्वारा शिकायत करने के बाद खानापूर्ति के नाम पर चंद घंटो के लिए कार्य को रोक दिया जाता है,  प्रशासन के लचर रवैए के कारण ग्रामीणों में नाराजगी बढ़ती जा रही है जो कभी भी बड़ी घटना के रूप में परिवर्तित हो सकती है। 

योगी सरकार की मंशा के खिलाफ काम कर रहा है जिला प्रशासन उन्नाव

सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ लगातार भूमाफियाओं पर शिकंजा कसने और कार्यवाही करने का फरमान अधिकारियो को सुनाया करते है लेकिन जिला प्रशासन उन्नाव पर मुख्यमंत्री के आदेशों का कोई असर दिखाई नहीं दे रहा है वही लोगों का कहना है कि उपरोक्त मामले में माफियाओ के पक्ष में ही तहसील प्रशासन द्वार पैमाइस की जाती है, जिला  प्रशासन इस बात  को जान कर भी अनजान बन रहा है कि यह सरकारी जमीन है और न ही जमीन खाली कराने की जहमत उठा पा रहा है, प्रसाशन द्वारा केवल जनता को आश्वासन पर आश्वासन दिए जाते हैं, कि यह सरकारी भूमि तालाब में दर्ज है, जंहा एक ओर जिला प्रशासन उन्नाव ने भूमाफिया के आगे घुटने टेक दिए है तो वंही दूसरी ओर सूबे के मुखिया की मंशा को हवा में उडा दिया है। अगर सूत्रों की माने तो यह भूमाफिया बड़े रसूखदार गिने जाते हैं और शासन प्रशासन को चंद सिक्कों के लालच में खरीद लेते हैं, इतना ही नहीं अगर इन भूमाफिओ द्वारा कब्जा की गयी ग्राम समाज की जमीन की जांच कराई जाए तो राजस्व विभाग को कई करोड़ों का फायदा होगा। क्योंकि इन भूमाफिओ ने ग्राम समाज की बीघों जमीन को अवैध तरीके से बेच डाली है जिसकी खबर सफीपुर के तहसीलदार, कानूनगो, पटवारी, लेखपाल सभी को होती है उसके बावजूद भी तहसील अमला देख कर अनजान बन जाता हैं। अब देखना यह की खबर प्रकाशन के बाद तहसील और जिला प्रशासन अपनी नाटकीय अनदेखी को समाप्त कर कार्यवाही करेगा या फिर सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ की मंशा के खिलाफ अपनी कार्यशैली को जारी रखते हुए सरकार की छवि आम जनमानस में धूमिल करता रहेगा। 



........ रिपोर्ट - रियाजुल हसन, बांगरमऊ उन्नाव

No comments