Ad

ads ads

Breaking News

स्वछता अभियान के नाम पर करोड़ों खर्च, नतीजा ढाक के तीन पात




उन्नाव। जनपद के  विकासखंड सिकंदरपुर सरोसी के ग्राम सदरपुर में चल रहा स्वच्छ भारत मिशन भ्रष्टाचार की भेट चढ़ गया। जिससे ग्रामीणों में भारी आक्रोश है। बताते चले कि सरकार द्वारा स्वच्छ भारत मिशन चलाया जा  रहा है। यदि सूत्रों की माने तो ब्लाक सिकंदरपुर सरोसी में स्वछता अभियान के नाम पर करोड़ों रुपए शौचालय पर खर्च किए जाने के बाद भी नतीजा ढाक के तीन पात साबित हो रहा है। ब्लॉक व ग्राम विकास अधिकारी स्वच्छ भारत मिशन के नाम पर धन का दुरुपयोग कर रहे हैं। योजना में जो अपात्र हैं उनको भी सीधे लाभ मिल रहा हैं। तो वहीँ पर पात्रों को दर दर भटकने पर मजबूर होना पड़ रहा है। जिसकी  बानगी ग्राम सदरपुर में देखने को मिल जायेगी। 
पात्रों ने रोया अपना दुखड़ा 
रिपोर्टर ने वाकये की जमीनी हकीकत परखनी चाही, तो मामला कुछ और ही निकला। विकासखंड सदस्य के ग्राम सदरपुर गांव निवासी रमेश पुत्र छोटा मजदूरी करता है। रमेश की बुजुर्ग मां नेत्रहीन है। वहीँ उसकी पुत्री पिंकी दिव्यांग है।  इस सबके बाद भी उसे किसी भी प्रकार की सहायता अब तक मयस्सर नहीं हो सकी है। उसी प्रकार लखपति मानसिक रूप से विक्षिप्त है। उसके विक्षिप्त होने के बाद भी अब तक जिम्मेदार नहीं चेत सके हैं। पीड़ित जब भी योजनाओं को लेकर ग्राम प्रधान व सचिव के पास गया।  उसे द्वारा धमका कर भगा दिया। वहीँ पीड़ित ने बताया कि ग्राम प्रधान से उसने भवन को लेकर बात करनी चाही तो उसे उसके पुस्तैनी पक्के मकान का हवाला देते हुए चलता कर दिया।
रिपोर्ट : अश्वनी पांडेय,परियर

No comments