Ad

ads ads

Breaking News

जिसको दिया था आदेश, हादसे का शिकार होने पर मृतक लाइनमैन को पहचानने से किया इंकार


लखीमपुर खीरी। चलती लाइन में फंसी टैक्टर ट्राली को निकालने गए लाइन मैन की विद्युत लाइन की चपेट में आ कर दर्द नाक मौत हो गई। सूचना मिलते ही उसके घर में कोहराम मच गया। वहीँ मृतक के परिजनों से मिलना तो दूर विद्युत विभाग के जेई ने मृतक संविदा कर्मी को पहचानने से इंकार कर दिया।

रोते-बिलखते मृतक के परिजन
जानकारी के अनुसार लखीमपुर खीरी जनपद के ब्लाक बांकेगंज के अंतर्गत ग्राम सभा पूरनपुर बांकेगंज के मध्यांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड में आशीष कुमार मिश्रा पुत्र रामप्रकाश करीब 5 वर्षो से विद्युत विभाग में संविदा पर तैनात था। परिजनों ने बताया कि जेई अजीत यादव के फोन करके आशीष को संसारपुर के पास लाइन में फसी गन्ने की ट्राली को निकालने के लिए जाने को कह कर भेज दिया।  जिस समय  आशीष लाइन पर चढ़ा, उस दौरान लाइन चल रही थी।  जिस पर आशीष ने जेई अजीत यादव से फोन पर मामले की जानकारी दी।
जिस पर भी जेई  ने उसे ट्राली से लाइन दुरस्त करने को कहा।  जिस पर आशीष मिश्रा भरी गन्ने की ट्राली के ऊपर चढ़ गया और तार छुड़ाने लगा। आशीष मिश्रा जैसे ही ट्राली में फंसे तारों को छुड़वाने लगा उसी दौरान एक तार उछल कर उसके गले में जा फंसा। लाइन के अर्थ मिलते ही तेज चिंगारियों के साथ आशीष का गला कटकर दूर रोड पर गिरा।  देखते ही देखते घटनास्थल में हड़कंप मच गया। जब इस सारी घटना की जानकारी फोन द्वारा जई अजीत यादव को दी गई, तो जेई ने अपना संविदा कर्मचारी बताने से इंकार कर मामले से पल्ला झाड़ लेना ही मुनासिब समझा। 

आपको बताते चलें विद्युत विभाग में यहां आम बात हो चुकी है कि जब कभी विद्युत कर्मचारी के ऊपर कोई भी घटना होती है तो वहां के अधिकारी कर्मचारी अपना संविदा कर्मचारी बताने से इनकार कर देते हैं। ऐसी विद्युत विभाग में अनेक घटनाएं हो चुकी हैं परंतु उन्हें अधिकारी फाइल में ही मामले को दफ़न कर देते हैं या पैसे के दम पर मामले को रफा दफा करने लगते हैं।  
जेई पिछले मामले में भी हो चुके हैं आरोपित
पिछले कुछ सालों में कई जेई के ऊपर मुकदमा पंजीकृत हुआ तथा विवेचना करने के बाद दोषी भी पाए गए।  परंतु उनको ना ही निलंबित किया गया और ना ही वह जेल गए।  वहीँ अब चर्चा सरेआम विभागीय कर्मियों के बीच चल रही है कि क्या  मृतक संविदा कर्मचारी के परिवार को कोई भी सहायता राशि नहीं मिल पाएगी। जबकि घटनास्थल तक खुद जेई विद्युत विभाग ने आशीष मिश्रा को जाने का आदेश देने के बाद पहचानने से इंकार कर दिया। 
...रिपोर्ट: हिमांशु श्रीवास्तव,लखीमपुर खीरी। 

No comments