Ad

ads ads

Breaking News

जिम्मेदारों की मौन स्वीकृति से अवैध खनन चरम पर


उन्नाव। विभागीय मिलीभगत के कारण खनन माफियाओं का मकडजाल जिले में मजबूती के साथ फैलता जा रहा है, जिम्मेदारों ने मौन स्वीकृति देकर अवैध खनन के इस कारोबार को और सबलता दे दी है जिससे खनन माफियाओं के हौसले बुलंद हैं। जिसका जीता-जागता नमूना तहसील सदर उन्नाव के सदर कोतवाली क्षेत्र के ग्राम पतारी  में जिला प्रशासन को गुमराह कर धड़ल्ले से रहा अवैध खनन है। ज्ञातव्य हो कि ग्राम पतारी में कमलेश व गुलाब की साढे़ चार बीघा जमीन है जिसकी  भूमि गाटा संख्या 1283/1284/1273/1274 कुल रकबा 1.1310 वर्ग मीटर भूमि खनन हेतु अरविन्द त्रिवेदी द्वारा जिला खनन विभाग से खनन के लिए अनुमन्य कराया गया था। खनन परमिट के अनुसार उपरोक्त खननकर्ता को उपरोक्त गाटा संख्या से कुल रकबा 1.1310 में दो हजार =0.56  सेन्टी मीटर लगभग दो फुट मिट्टी खनन करने का परमिट जारी हुआ था। परन्तु उपरोक्त खननकर्ता द्वारा लगभग पाँच फुट खनन अवैध रुप से वर्तमान में किया गया है, इतना ही नहीं उपरोक्त  खनन स्थान के निकट नरायन  पुत्र डोरी के खेत से भी अवैध खनन लगातार किया जा रहा है। सूत्रों की मानें तो नारायन पुत्र डोरी के खेत में जो भी खनन हो रहा है।वह पूर्णतः अवैध है। नारायण के खेत में खनन करने की अनुमति खनन विभाग से खनन कर्ता द्वारा नहीं ली गई है।तथा दो फुट खनन की अनुमति कमलेश के खेत के लिए ली गई है उसमें भी गैरकानूनी तरीके से लगभग पांच फुट का खनन किया गया है। गांव में हो रहे अवैध खनन को लेकर ग्रामीणों में जिला प्रशासन के रवैये को लेकर तरह-तरह के कयास लगाए जा रहे हैं।