Ad

ads ads

Breaking News

हत्यारोपी ने लगाई फांसी, मौत



बाराबंकी। जनपद में एक दिन पहले हुयी हत्या के मामले में आरोपी ने आज अपनी कार्यवाई के डर से खुद ही अपने आपको मौत के हवाले कर दिया। यह आरोपी एक दिन पूर्व ही एक बीएससी के छात्र को भाला मार कर हत्या किये जाने का आरोपी था। पुलिस ने ग़ाँव के बाहर एक पेड़ से लटकती उसकी लाश को बरामद कर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। 
मामला जनपद बाराबंकी के थाना घुंघटेर इलाके के गांव बिजौली का है ,जहाँ कल इटावा जनपद में रहकर पढ़ाई करने वाले बीएससी के छात्र इन्द्रेश यादव की भाला मार कर हत्या उस वक्त कर दी गयी थी जब वह अपने गाँव में आग ताप रहा था। इन्द्रेश यादव पढ़ाई में हुई छुट्टी के कारण गाँव आया था। गाँव के कुछ लोगों का दबी जुबान मानना है कि हत्या आरोपी वीरेन्द्र को अपनी घर की महिला के साथ अवैध सम्बन्धो का शक था और इसी कारण उसने इंद्रेश यादव की भाला मार कर हत्या कर दी थी। लेकिन आज हत्यारोपी वीरेन्द्र ने गाँव के बाहर लगे एक पेड़ में फाँसी लगा कर आत्महत्या कर ली। आत्महत्या की खबर पाते ही बाराबंकी पुलिस मौके पर पहुंची और पेड़ से लटकती वीरेन्द्र की लाश को उतार कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। 
मृतक छात्र इंद्रेश के चाचा ने बताया था कि इंद्रेश इलावा जिले में रहकर बीएससी की पढ़ाई कर रहा था और छुट्टी के दौरान गाँव आया था। गाँव में ही एक जगह दावत में उसे खाना खाने के लिए घर से निकला था और रास्ते में वीरेन्द्र के दरवाजे पर जलती हुयी अलाव की आग को देखकर वहाँ बैठ गया था। वहां पहले से ही वीरेन्द्र की पत्नी और गाँव की एक अन्य महिला आग ताप रही थी। तभी वीरेन्द्र ने आकर भाले से इंद्रेश पर हमला कर दिया था। अपने ऊपर हुए हमले से इंद्रेश चिल्लाने लगा और इंद्रेश की आवाज सुनकर वह लोग मौके पर पहुंचे तो देखा कि उसका पेट फटा हुआ था और इन्द्रेश ने बताया कि वीरेन्द्र ने उसे मारा है। वह लोग पहले इन्द्रेश को लेकर सीएचसी और फिर वहाँ से रेफर किये जाने पर लखनऊ लेकर गए जहाँ उसे मृत घोषित कर दिया गया।इंद्रेश के चाचा की तहरीर पुलिस ने वीरेन्द्र के विरुद्ध मुकदमा पंजीकृत कर लिया था।
बाराबंकी के पुलिस अधीक्षक डाक्टर सतीश कुमार ने बताया कि आज सुबह तड़के पुलिस को सुचना मिली कि वीरेन्द्र ने गाँव के बाहर एक पेड़ में फांसी लगा ली है। सूचना पर मौके पर पहुँची पुलिस ने पेड़ से शव को उतार कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। पुलिस को लगता है कि अपने को हत्यारोपी बनाये जाने की कार्यवाई के डर से वीरेन्द्र ने आत्महत्या की होगी ।

No comments