Ad

ads ads

Breaking News

चाय बनी काल, सात गंभीर

उन्नाव। मेहनतकश मजदूरों के लिए चाय की घूंट पी थकान मिटाना आज उनके लिए भारी पड़ गया, जब वे लखनऊ व कानपुर को जोडने वाले शहर उन्नाव में एक ढाबा पर चाय पीने पहुंच गए। वहाॅ पर ढाबा में रखी जहरीली चाय से चाय पी रहे दस मजदूरों की तबीयत खराब हो गई। अचानक उन्हे जमीन पर गिरता देख ढाबे में भगदड़ मच गई। आनन फानन उन्हे नजदीकी अस्पताल ले जाया गया। जिनमें चिकित्सक ने उन्हे भर्ती कर इलाज शुरू कर दिया। जिनमें सात की हालत गंभीर देख कानपुर रेफर कर दिया गया।
जानकारी के अनुसार अजगैन थाने के गांव चमरौली के मोड़ पर स्थित ढाबे पर आज तड़के सोनिक स्टेशन से मालगाड़ी से खाद उतार कर आए सात मजदूरों ने ढाबे पर चाय बनवा कर पी। मजदूरों के लिए बनाई गई चाय को ढाबे की तीन कर्मचारियों ने भी पिया। चाय पीने के कुछ देर बाद ही सभी एक एक कर बेहोश होने लगे, इससे हड़कंप मच गया। 
चाय न पीने वाले ढाबे के एक कर्मचारी ने साथियों समेत मजदूरों को बेहोश देखा तो मालिक राजेश पुत्र जमुना को सूचना दी। कुछ ही देर में पहुंचे ढाबा मालिक ने सभी को नवाबगंज सीएचसी पहुंचाया। ढाबे पर काम करने वाले मोहित (14) पुत्र नन्हके, विकास (12) पुत्र हरीशंकर, दीपू पुत्र नन्हकऊ को भर्ती कर लिया, जबकि राजू पुत्र राधे, राजेश पुत्र सुंदर, पुत्तन पुत्र मिथलू, निवासी बाबाखेड़ा के साथ दीपक पुत्र मिश्रीलाल, सुनील कश्यप पुत्र नन्हा, रामनरेश पुत्र गयादीन और शिवरतन पुत्र रामलाल निवासी चमरौली को गंभीर हालत में जिला अस्पताल ले जाया गया। करीब पांच घंटे तक उपचार के बाद भी वह होश में नहीं आ सके। लगातार हालत बिगड़ती देख डॉ. मो.अहमद ने सभी को हैलट कानपुर रेफर कर दिया।