Ad

ads ads

Breaking News

अनुश्रवण टीम का लोनी नाले का निरीक्षण पूर्ण, अब कारवाई का इंतजार

उन्नाव। कुंभ मेले के आयोजन को लेकर जिला प्रशासन ने कठोर निर्णय लेने के लिए प्रयास शुरू कर दिए है। जिस में अनुश्रवण समिति ने लगभग साठ किलोमीटर के दायरे में निरीक्षण किया। इस दौरान टीम ने छह से अधिक स्थानों पर नाले में टैपिंग कराने का निर्णय लिया है। समिति ने नाले में किस जगह पानी है और किस जगह नहीं है। इसकी बिंदुवार रिपोर्ट तैयार की है। बताते चले कि कुंभ मेला से पहले नालों का निरीक्षण कर गंगा नदी को साफ रखने की प्रशासन ने कोशिशें तेज कर दी है। सिटी मजिस्ट्रेट राकेश कुमार के नेतृत्व में अनुश्रवण समिति ने लोनी नाले का निरीक्षण किया। समिति ने दही चैकी सीईटीपी के पास से लोनी नाले का निरीक्षण शुरू किया। सड़क मार्ग के रास्ते समिति ने दही चैकी से पुरवा- पाटन तक नाले का सघन निरीक्षण किया। इस दौरान कई स्थानों पर नाले में प्रदूषित पानी मिलने पर टीम ने उन स्थानों को चिह्नित किया। देखा गया कि कहां पर फैक्टरियों का पानी भरा है और किन-किन स्थानों पर सूखा पड़ा है। जिसकी समिति ने बिंदुवार रिपोर्ट तैयार की।

अनुश्रवण समिति में सिटी मजिस्ट्रेट के अलावा प्रदूषण विभाग, जल निगम के अधिकारी व उद्यमी शामिल रहे। निरीक्षण में जिला मुख्यालय से 50 किमी की दूरी पर लोनी नाले में पानी बेहद कम मिला। लोगों ने बताया कि किसान इस पानी का प्रयोग अपनी फसलों के लिए भी करते हैं। टीम को मीरमऊ से रायबरेली के भीठी तक नाले में पानी नहीं मिला। सिटी मजिस्ट्रेट राकेश कुमार ने बताया कि लोनी नाले का दहीचैकी औद्योगिक क्षेत्र से रायबरेली जिले की सीमा तक गहन निरीक्षण किया गया है। वह अपनी रिपोर्ट तैयार कर जिलाधिकारी को देंगे।