Ad

ads ads

Breaking News

घर-घर जाकर खिलाई जाएगी फाइलेरिया की दवा


उन्नाव। जनपद के शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में दो वर्ष से अधिक आयु के लोगों को राष्ट्रीय फाइलेरिया दिवस 14 से 16नवम्बर-2018 तक घर-घर जाकर आशा, आशा संगिनी, ए0एन0एम0 आंगनवाड़ी कार्यकत्री, स्वयं सेवकों द्वारा फाइलेरिया रोग से बचाव की दवा-डी0ई0सी0 गोली एवं पेट के कीड़े की दवा अल्बेण्डाजाल टेबलेट निःशुल्क खिलाई 
जायेगी। इस कार्य हेतु 3879 स्वास्थ्य कर्मी लगाये गये है। अभियान के दौरान इस दवा से 02 वर्ष से अधिक आयु के लक्षित जनसंख्या 2909186 को आच्छादित किया जायेगा। जो लोग दवा खाने से छूट जायेगें उन्हें मापअप राउण्ड में दिनांक 17 व 18 नवम्बर को स्वास्थ्य कर्मियों द्वारा घर-घर जाकर खिलाई जायेगी। 
फाइलेरिया रोग कैसे फैलता हैः- 
फाइलेरिया रोग क्यूलेक्स पैटीगन्स मादा मच्छर के काटने से से होने वाला संक्रामक रोग है जिससे सामान्यतः हाथी पाव के नाम से जाना जाता है। क्युलेक्स मच्छर गंदे पानी में पनपते 
है। संक्रमित व्यक्ति को काट कर मच्छर संक्रमित हो जाते जो स्वस्थ व्यक्ति को काटकर संक्रमित कर देते है। संक्रमित व्यक्ति को हाथीपाव व हाइड्रोसील का खतरा रखता है। 
फाइलेरिया के लक्षणः- 
फाइलेरिया रोगी में बुखार-बदन में खुजली तथा पुरूषों के जननागों में तथा आस-पास दर्द या सूजन होना, हाथ व पैर में सूजन, हाथीपांव और हाइड्रोसील, अण्ड कोशों का असामान्य बड़ा होना, स्तनों का असामान्य बड़ा होना। 
फाइलेरिया से रोकथाम व नियन्त्रणः-
मच्छरदानी का प्रयोग किया जाये।आस-पास साफ-सफाई रखी जाये घर के आस-पास के गड्डों नाले नालियों में जल एकत्रित न होने दिया जाये। अभियान में फाइलेरिया से बचाव की दवा जरूर खाए। यह दवा फाइलेरिया के परजीवी को मार देती है। मरते हुए परजीवियों के प्रतिक्रिया स्वरूप कभी-कभी सर दर्द, शरीर में दर्द, बुखार उल्टी तथा बदन पर चकत्ते एवं खुजली जैसी मामूली प्रतिक्रियाएं हो सकती है। इस तरह की 
परेशानी होने पर नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्र पर चिकित्सक को दिखाया जाये। 
गोली सेवनः- 
2 से 5 वर्ष आयु के बच्चों को डी0ई0सी0 की एक गोली 
100 मि0ग्रा0 तथा 01 गोली अल्बेण्डाजाल 400 मि0ग्रा0, 06 से 14 वर्ष तक के बच्चों को डी0ई0सी0 की 02 गोली (100 मि0ग्रा0), 01 गोली अल्बेण्डाजाल तथा 15 वर्ष व उससे ऊपर की आयु वाले व्यक्तियों को डी0ई0सी0 की 03 गोली (100 मि0ग्रा0) तथा अल्बेण्डाजाल की 01 गोली खानी है। यह दवा खाली पेट नही खाना है अल्बेण्डाजाल की गोली चबाकर खाना है। 02 वर्ष से कम उम्र के बच्चों, गर्भवती महिलाओं और गम्भीर रूप से पीड़ित व्यक्तियों को नही खाना है। डी0ई0सी0 की गोली वर्ष में केवल 01 बार व लगातार 05 से 06 वर्ष तक आयु वर्ग के अनुसार खानी चाहिए इससे फाइलेरिया रोग से बचा जा सकता है। 
फाइलेरिया की जांच सुविधाः- 
पुराना अस्पताल परिसर में संचालित (निकट 
रेलवे स्टेशन) फाइलेरियां जांच यूनिट में प्रत्येक बृहस्पतिवार को रात्रि में फाइलेरिया की निःशुल्क जांच सुविधा प्रदान की जाती है।