Ad

ads ads

Breaking News

एनकाउंटर में नहीं चली पिस्टल तो यूपी पुलिस के दरोगा ने मुँह से की ठांय-ठांय


संभल। अपराधियों के खिलाफ लगातार अभियान चलाकर एनकाउंटर करने में लगी उत्तर प्रदेश की पुलिस तो अब मुंह से भी अच्छा एनकाउंटर करने लगी है। संभल में ऐसा ही मामला सामने आया है, जब अपराधी का एनकाउंटर करने गन्ने के खेत में उतरे दारोगा व कॉन्टेबल की पिस्टल ने दांव दे दिया तो वह लोग मुंह से ही ठांय-ठांय की आवाज निकालकर एनकाउंटर में जुट गए। 
अलीगढ़ में मीडिया को आमंत्रण देकर एनकाउंटर के टेलीकास्ट कराने के मामले में किरकिरी झेल रही प्रदेश की पुलिस ने नया कारनामा किया है। यूपी पुलिस की एक और हैरान करने वाली तस्वीर सामने आई है। संभल में पुलिस बदमाश का पीछा करते हुए जंगल की तरफ पहुंच गई और जब पुलिस को यह लगने लगा कि बदमाश कुछ दूरी पर है तो, गोली चलाने की बारी आई। इस दौरान तो वहां पर कुछ पुलिसकर्मियों ने गोली चलाई, लेकिन दारोगा की पिस्तौल लाख कोशिश के बाद भी नहीं चल पाई। दारोगा कोशिश करते रहे और जब पिस्टल से गोली नहीं निकली। इसके बाद तो उन्होंने तथा साथियों मुंह से ही गोली चलने की आवाज निकालनी शुरू कर दी। 
सोशल मीडिया पर जारी वीडियो में भी दरोगा जी मुंह से ही ठांय-ठांय की आवाज निकालकर बदमाश को ललकार रहे थे। यह घटना शुक्रवार देर रात की है। असमोली थाने की पुलिस और बदमाशों के बीच मुठभेड़ हुई। गोली नहीं चला जाने के बाद भी पुलिस ने 25 हजार का इनामी घायल बदमाश को गिरफ्तार कर लिया। इस मुठभेड़ में इंस्पेक्टर और सिपाही गोली लगने से घायल हो गए। इसके बाद घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जबकि बदमाश का दूसरा साथी अंधेरे का फायदा उठाकर भागने में फरार हो गया। पुलिस अब इनामी बदमाश से पूछताछ कर रही है। असमोली थाना क्षेत्र में 25 हजार के इनामी बदमाश रुकसाद से मुठभेड़ करने निकली पुलिस के हथियार ऐन वक्त पर दगा दे गए। एक दारोगा की पिस्टल ही नहीं चली। इसके बाद उस दारोगा ने मुंह से ठांय-ठांय की आवाज निकाली। इसका वीडियो वायरल होने पर मुठभेड़ का यह सच सामने आया है। 
शुक्रवार देर रात असमोली पुलिस मंसूरपुर माफी गांव में गश्त कर रही थी। इसी दौरान बाइक सवार दो लोग दिखे। पुलिस ने उन्हें रोका तो फायरिंग करते हुए बदमाश बाइक छोड़कर गन्ने के खेत में घुस गए। इस पर पुलिस ने खेत की घेराबंदी कर ली। मौके पर पहुंचे एक दारोगा ने अपनी पिस्टल निकालकर फायरिंग करने का प्रयास किया। कई बार टिगर दबाने के बावजूद गोली नहीं चली। इस पर दारोगा ने मुंह से गोली चलने की आवाज निकालनी शुरू कर दी। वह वहां पर आवाज निकालता रहा और आगे बढ़ता रहा।