Ad

ads ads

Breaking News

दो सगे भाइयों की गोली मारकर हत्या

  

लखनऊ। ठाकुरगंज थाने से कुछ दूरी पर मल्लाही टोला में बुधवार देर रात हुई सनसनीखेज वारदात में इमरान गाजी (20) और उसके छोटे भाई अरमान गाजी (18) की गोली मार कर हत्या कर दी गई। दोनों भाई अपने साथी के साथ कार से चाय पीने गए थे। इस बीच बदमाशों ने घर के समीप ही घटना को अंजाम दिया। घटना की जानकारी पर एडीजी राजीव कृष्णा, एसएसपी कलानिधि नैथानी समेत अन्य पुलिस अधिकारी और भारी पुलिस बल के साथ पहले ट्रामा सेंटर और फिर घटनास्थल पर पहुंचे। आक्रोशित परिवारीजनों ने पुलिस कर्मियों से धक्का मुक्की कर जमकर हंगामा किया।

मिश्री टोला निवासी दिलदार गाजी व्यवसायी हैंं। बुधवार देर रात उनके बेटे इमरान गाजी और अरमान अपने साथी ईशान के साथ कार से चाय पीने गए थे। इस बीच क्षेत्र में रहने वाले शिवम और चीना भी कुछ साथियों के साथ पहुंचे। दोनों पक्षों में पुरानी रंजिश थी। जिसको लेकर शिवम और चीना, इमरान से गाली-गलौज करने लगे। विरोध पर शिवम, चीना और उनके साथियों ने इमरान और उसके भाई अरमान पर हमला बोल दिया। हमलावरों ने लाठी-डंडों और सरिया से दोनों को पीटा और दोनों को गोली मार कर भाग निकले। सूचना पर इमरान और अरमान के परिवारीजन दोनों को ट्रामा सेंटर लेकर पहुंचे। जहां, डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। 
बवाल की सूचना पर एसएसपी कलानिधि नैथानी, सीओ चौक समेत कई थानों का पुलिस बल मौके पर पहुंचा। एसएसपी ने पीडि़त परिवारीजनों को जल्द हमलावरों की गिरफ्तार कर आश्वासन देकर शांत कराया। इसके बाद दोनों के शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिए गए। एसएसपी ने बताया कि घटनास्थल के आसपास लगे सीसी कैमरे खंगाले जा रहे हैं। इसके साथ ही नामजद हमलावरों की तलाश में पुलिस की टीमें दबिश दे रही हैं। दिलदार ने बताया कि इमरान प्रापर्टी का काम करता है। जबकि अरमान ओला चालक है। पुलिस ने बताया कि दोनों पक्षों में पुराना विवाद है। चीना और शिवम ने इमरान और उसके भाई को बहाने से समझौते की बात कहकर बुलाया था। इमरान अपने छोटे भाई अरमान और साथी ईशान के साथ पहुंचा तो उक्त लोगों ने गाली-गलौज शुरू कर दी। विरोध पर उसे जमकर पीटा और फिर गोली मार दी। ईशान को धमकाया, कुछ बोले तो मार देंगे गोली ईशान के विरोध पर हमलावरों ने उसे जमकर धमकाया था। बताया जा रहा है कि हमलावरों ने ईशान को भी गोली मार कर हत्या की धमकी दी थी। जिसके कारण ईशान डर गया और वह चुपचाप खड़ा रहा।