Ad

ads ads

Breaking News

ऊर्जा विभाग के सामने बौना साबित हुआ, मुख्यमंत्री कार्यालय का शासनादेश

भ्र्ष्टाचार विहीन एवं पारदर्शी प्रसाशन की स्थापना करने के अभिप्राय  से राज्य सरकार के द्वारा जनसुनवाई पोर्टल की स्थापना की गयी है जिसके माध्यम से जनसमस्याओ के पारदर्शी निस्तारण का दावा किया जा रहा है लेकिन दर्ज कराई गयी शिकायतों की स्थिति को देखा जाए तो विभागीय भ्र्ष्टाचार के आगे सारे सरकारी दावे बौने नजर आ रहे  है

उन्नाव। उत्तर प्रदेश पावर कॉर्पोरेशन लिमिटेड के अधिकारियों के आगे एस पी  गोयल प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश शासन के द्वारा जारी शासनादेश संख्या 1/2017/386 /चौतीस -लो. शि.-5 /2017  पूरी तरीके से प्रभावहीन सिद्ध हो चुका है मुख्यमंत्री कार्यालय द्वारा जारी शासनादेश में स्पष्ट किया गया है कि जनसुनवाई पोर्टल पर दर्ज की गयी शिकायत आरोपी अधिकारी से ना कराई  जाये।
परन्तु फ़ारुल निवासी ग्राम पोस्ट  सुरसेनी थाना बांगरमऊ जनपद उन्नाव के द्वारा जनसुनवाई पोर्टल पर अधिशाषी अभियंता 4 विधुत बांगरमऊ जनपद उन्नाव के विरुद्ध दर्ज कराई गयी शिकायत संख्या 40015618035352  जो प्रबंधनिदेशक उत्तर प्रदेश पावर कॉर्पोरेशन लिमिटेड के कार्यालय से परिक्रमा करती हुई अधिशाषी अभियंता 4 विधुत बांगरमऊ जनपद उन्नाव को प्राप्त हो गयी। अब अगर निष्पक्ष जाँच की प्रक्रिया को देखा जाए तो प्रत्येक जाँच में वादी प्रतिवादी के बयान जाँच अधिकारी का निष्कर्ष तथा वरिष्ठ अधिकारी के निर्णय का होना अतिआवश्यक है।
लेकिन विभागीय अधिकारियों के द्वारा नियमो को अनदेखा करके जाँच को एक पक्षीय रूप से निस्तारित कर  दिया गया।  अब प्रश्न यह है अधिशाषी अभियंता 4 विधुत बांगरमऊ जनपद उन्नाव अपने तथा अपने कमाऊ कर्मचारियों पर लगाए गए आरोपों का क्या उत्तर देंगे इसकी व्याख्या किया जाना आवश्यक नहीं है।  अब घटना की पृष्ठ भूमि को देखें तो शिकायत कर्ता ने शिवनाथ पुत्र दौलतराम के आवास परिसर में अपने औधोगिक स्थल के लिए 5 केवीए का कनेक्शन प्राप्त करने के लिए नियमानुसार आवेदन किया था।  कार्यालय अधिशाषी अभियंता 4 में कार्यरत संतोष कुमार श्रीवास्तव ने 25000 रुपया सुविधा शुल्क की मांग की शिकायत कर्ता द्वारा इंकार करने पर विभाग के द्वारा शिकायत कर्ता को 1,14,782 रूपये का प्राकलन दिया गया और उसी स्थान पर शिवनाथ पुत्र दौलतराम को मात्र 3550 रूपये के भुगतान पर 3 केवीए का कनेक्शन निर्गत कर दिया गया। शिकायतकर्ता को जब इस बात का पता चला तो शिकायत कर्ता ने  राज्य सरकार के आलाधिकारियों को  शिकायती पत्र भेजकर जाँच करने की मांग की तो विभागीय कर्मचारियों ने स्वयं  को बचाने के लिए शिकायत कर्ता  के गवाहों को धमकाना शुरू कर दिया जिसकी सूचना पाते ही शिकायतकर्ता ने प्रमुखसचिव ऊर्जा विभाग को जनसुनवाई के माध्यम शिकायत संख्या 40015618033115 दर्ज कराई जिसमे गवाहों को धमकाने की सूचना के साथ-साथ गैर विभागीय जाँच कराने का अनुरोध किया गया परन्तु शिकायतकर्ता की यह सूचना भी विभिन्न स्थानों से होते हुए अधिशाषी अभियंता 4 विधुत बांगरमऊ जनपद उन्नाव को प्राप्त हो गयी।  जनसुनवाई पोर्टल पर की जा रही इस अनियमित शिकायतों की स्थिति के संबंध में शिकायतकर्ता के द्वारा राज्य सरकार के आलाधिकारियों से उच्च स्तरीय जाँच की मांग की गयी  है।