Ad

ads ads

Breaking News

गस्त पर निकले सिपाही के सीने में लगी गोली,मौत


 
कानपुर देहात। गजनेर थाने की पामा चौकी सिपाही नरेश चंद्र यादव (55) के सीने में सोमवार देर रात संदिग्ध परिस्थितियों में गोली लग गई। कानपुर के अस्पताल में इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई। सूचना पर अधिकारी अस्पताल पहुंचे और साथी सिपाही से पूछताछ शुरू की। वहीं परिवारीजन ने महकमे के अफसरों पर संतोषजनक जवाब न देने का आरोप लगाया और कहा कि नरेश आत्महत्या नहीं कर सकते। अधिकारी घटना के कारणों का पता लगाने में जुटे हैं।

गजनेर थाना क्षेत्र की पामा चौकी में तैनात सिपाही नरेश चंद्र सोमवार रात साथी दीवान वेद प्रकाश तिवारी के साथ गश्त पर निकले थे। रात करीब 10:30 बजे दोनों सरवनखेड़ा स्थित पेट्रोल पंप के पास पहुंचे। यहां दीवान वेद प्रकाश लघुशंका करने चले गए। इसी बीच सरकारी रायफल से गोली चली और सिपाही नरेश के सीने में जा लगी। गोली लगते ही वह लहूलुहान होकर गिरे। आवाज सुन वेदप्रकाश दौड़े और तुरंत गजनेर थानाध्यक्ष व चौकी इंचार्ज को सूचना दी।

आनन फानन एसओ गजनेर पहुंचे और सिपाही नरेश को रनिया के निजी हास्पिटल ले गए। वहां से प्राथमिक उपचार के बाद नरेश को कानपुर रेफर कर दिया गया। सर्वोदय नगर स्थित रीजेंसी अस्पताल में लाने के बाद डाक्टरों ने उनका इलाज शुरू किया लेकिन कुछ ही देर में नरेश ने दम तोड़ दिया। सूचना पर एसपी राधेश्याम व अन्य अधिकारी और श्यामनगर में रह रहे नरेश के परिवारीजन पहुंचे। मौत की खबर सुनकर उनकी पत्नी ज्ञानो देवी बेसुध हो गईं। बेटों दीपक व पीयूष ने कहा कि पिता आत्महत्या नहीं कर सकते। उनके साथ कोई अनहोनी हुई है। जिसे अधिकारी नहीं बता रहे। एसपी राधेश्याम ने बताया कि साथी सिपाही से पूछताछ कर मामले की छानबीन की जा रही है। सोमवार को ही छुट्टी से लौटे थे नरेश साथी सिपाहियों ने बताया कि नरेश सोमवार को ही तीन दिन की छुड्ढट्टी से लौटे थे। वह मूलरूप से इटावा भरथना के पाली गांव के रहने वाले हैं। काफी पहले कानपुर में ही तैनात थे, तब उन्होंने श्यामनगर में घर बनवाया था। परिवार यहीं रहता है। बड़ा बेटा दीपक स्पोट्र्स गुड्स की दुकान चलाता है। हादसा व आत्महत्या में उलझी पुलिस गश्त के दौरान सिपाही को गोली लगने का कारण पुलिस अफसरों को भी समझ में नहीं आ रहा। साथी सिपाही वेदप्रकाश ने नरेश के खुद ही गोली मारने की जानकारी दी। जबकि परिजनों ने कहा कि ऐसा कोई कारण नहीं था, जिसकी वजह से नरेश आत्महत्या करें। सोमवार को वह घर से ड्यूटी पर गए थे, तब भी उनके चेहरे पर कोई तनाव नहीं था। पुलिस आत्महत्या व हादसा दोनों बिंदुओं पर जांच कर रही है। 

साभार -जनता की आवाज।