Ad

ads ads

Breaking News

पत्थर बाजों के हमले से घायल हुए जवान की जान नहीं बचा सके डॉक्टर

 
डेस्क। जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग जिले में पथराव के दौरान जख्मी हुए सेना के जवान की कल मौत हो गई, रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता कर्नल राजेश कालिया ने बताया कि जब दस्ता अनंतनाग बाइपास से शाम छह बजे गुजर रहा था,इसी दौरान कुछ युवकों ने वाहन पर पथराव शुरू कर दिया, जिसमे से एक पत्थर राजेंद्र सिंह के सर पर लगा था जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गए थे, जिसके बाद उन्हें तुरंत अस्पताल में भर्ती कराया गया। 
 
लेकिन डॉक्टर उनकी जान नहीं बचा सके, सिंह त्वरित प्रतिक्रिया टीम का हिस्सा थे, जो सीमा सड़क संगठन 'बीआरओ' के दस्ते को गुरुवार को सुरक्षा मुहैया करा रही थी, राजेंद्र सिंह उत्तराखंड के पिथौरागढ़ में बेदाना गांव के रहने वाले थे, वह 2016 में सेना में शामिल हुए थे उनके परिवार में माता-पिता हैं
कल ही बारामूला जिले के सोपोर में मुठभेड़ में एक जवान शहीद हो गया था, जबकि दो आतंकवादी मारे गए थे, शहीद जवान की पहचान बृजेश कुमार के रूप में हुई, वह सोपोर के पाज्लपोरा गांव में मुठभेड़ शुरू होने के बाद कुछ मिनटों में ही घायल हो गए थे और श्रीनगर के सेना अस्पताल में उन्होंने दम तोड़ दिया।

वहीं 25 अक्टूबर को रात करीब 9 बजे दक्षिण कश्मीर के त्राल इलाके में आतंकवादियों की ओर से स्नाइपर राइफल से किये गए हमले में सेना का जवान शहीद हुआ था, वह गार्ड ड्यूटी पर तैनात थे, अधिकारियों ने बताया कि उनके सिर पर गोली लगी, इससे पहले 21 अक्टूबर को आतंकवादियों ने केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के शिविर पर हमला किया था जिसमें एसएसबी का एक जवान शहीद हो गया था।