Ad

ads ads

Breaking News

अपने वीर बेटे को अंतिम विदाई देने उमडा उन्नाव


उन्नाव। जनपद के लाल शहीद विजय कुमार की अंतिम यात्रा में जनसैलाब उमड़ पड़। विजय कुमार अमर रहे के जयकारों से गाँव गूंज उठा। लेकिन अपने इकलौते बेटे को कंधा देने में बूढ़े बाप के पैर लड़खड़ा रहे थे, हर किसी का गला रुँधा था और आँखे नाम थी विधानसभा अध्यक्ष, जनपद प्रभारी मंत्री, सदर विधायक, जिलाधिकारी, पुलिस अधीक्षक, सपा नेता धर्मेंद्र यादव, कांग्रेस नेता अंकित परिहार सहित जनपद के अन्य अधिकारी व ग्रामीण अपने जाबांज बेटे को अंतिम विदाई देने के लिए पंहुचे। शहीद विजय की अंतिम यात्रा में मौजूद लोगों ने कंधा देकर अंतिम विदाई दी। बक्सर घाट पर शहीद विजय का अंतिम संस्कार किया गया। इधर शहीद विजय कुमार के परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल है। परिजनों का कहना था कि दीपावली के अवसर पर छुट्टी में आने की तैयारी में थे। वही आज उन्हें यह दिन देखने को मिला रहा है।
विदित है कि जम्मू कश्मीर के पुलवामा में स्थानीय निकाय चुनाव सम्पन्न कराने के लिये गई एसएसबी 42वीं बटालियन के जवान विजय कुमार उस समय आतंकवादियों की गोलियों से शहीद हो गए जब वह आतंकियों के हमले में अकेले ही भिड़ गए,उन्होंने आतंकी हमले को तो विफल कर दिया लेकिन इस बीच एक गोली उनके सर को भेद गयी। जिससे वह वीरगति को प्राप्त हो गए। जैसे ही विजय कुमार के शहीद होने की खबर जनपद व उनके गांव बीघापुर क्षेत्र के रावतपुर पहुंची वैसे ही परिजनों में कोहराम मच गया। शहीद विजय का शव आज सुबह उनके पैतृक गांव रावतपुर पंहुचा। शव पहुंचते ही गांव में कोहराम मच गया। घर के सामने हजारों की संख्या में लोग पहुंच गये।
विधानसभा हृदय नारायण दीक्षित जनपद प्रभारी मंत्री रमापति शास्त्री सदर विधायक पंकज गुप्ता जिला अधिकारी देवेंद्र कुमार पांडे, पुलिस अधीक्षक हरीश कुमार आदि ने शहीद विजय कुमार के अर्थी को कंधा दिया। इस मौके पर उमड़े जनसैलाब ने भारत माता की जय और वंदे मातरम का नारा लगा कर शहीद विजय कुमार को श्रद्धांजलि दी । इस दौरान विजय कुमार अमर रहे और जबतक सूरज चाँद रहेगा के लोग नारे लगा रहे थे। वही इसी बीच शहीद विजय कुमार को गार्ड ऑफ ऑनर व सलामी दी गयी। इस दौरान लोग छतों पर से अपने जाबांज बेटे की एक झलक पाने को बेताब दिखे।