Ad

ads ads

Breaking News

सरकारी अस्पतालों में दवाओं का पड़ा अकाल,मायूस होकर लौट रहे मरीज

मियाँगंज/उन्नाव। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार के लाख दावों के बावजूद प्रदेश के स्वास्थ्य केंद्रों में मरीजों के लिए किसी भी प्रकार की औषधि अभी तक उपलब्ध नहीं कराई जा सकी है। वही गरीब मरीजों को अन्य चिकित्सा केंद्रों में अपने इलाज के लिए दर-दर भटकना पड़ रहा है। जनपद जिला अस्पताल से लेकर दूरदराज के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों की माली हालत किसी से छिपी नहीं है। वहां पर  चिकित्सा के नाम पर गंभीर मरीजों के जीवन के साथ खिलवाड़ कर, रेफरिंग करना मानों तो चिकित्सकांे के लिए बाएं हाथ का खेल बन गया है। जनपद के मियागंज के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में यही कुछ देखने को तब मिला जब इलाज के लिए आए क्षेत्रीय ग्रामीणों को वहां पर मौजूद फार्मेसिस्ट ने बाय का रास्ता दिखाते हुए उन्हें बीटाडीन कैल्शियम की दवाइयों के अलावा अन्य दवाओं न के ना होने की बात कर अपनी जिम्मेदारियों से छुट्टी पर पा ली।
इनसेट
जिला अस्पताल में भी है कुछ ऐसा हाल

जनपद के जिला अस्पताल में भी कुछ ऐसा ही हाल आए दिन देखने को मिल रहा है वहां पर दूरदराज से आए महेश जिला अस्पताल में जन औषधि केंद्र से अक्सर मायूस लौट रहे हैं। जहाॅ पर मौजूद फार्मेंसिस्ट उन्हे दवाईयों न होने की बात कह बाहर का रास्ता दिखाने से नहीं चूक रहे है।  सरकारी अस्पताल मे कोई दवा नही मरीज परेशान होकर लौट रहे है, केवल आयरन के अलवा कोई दवा नही है चीप
फार्मेसिस्ट का कहना है, कि कोई  दवा नही अा रही है।