Ad

ads ads

Breaking News

धूम-धाम से मनाई ढोल ग्यारस


सागर बंडा।  प्रत्येक वर्ष की भांति इस वर्ष भी डोल ग्यारस को बड़ी धूमधाम एवं हर्षोल्लास से मनाया गया। चल समारोह राज मंदिर से शुरू होकर पंचमुखी मंदिर संजय कॉलोनी होते हुए राज मंदिर जाकर समापन किया गया अभिमान निकलते समय लोग अपने-अपने घरों के बाहर खड़े होकर दर्शन किए एवं फूल बरसाए। कहते हैं डोल ग्यारस हिंदू उपवास में ग्यारस या एकादशी व्रत का बहुत अधिक महत्व होता है जीवन का अंत ही सबसे कठिन होता है उसे सुधारने के लिए एकादशी का व्रत किया जाता है यह भादो शुक्ल पक्ष की ग्यारह दिन यह ग्यारस मनाई जाती हैं। श्री कृष्ण ने युधिष्ठिर से कहा था एकादशी सबसे महान व्रत है मैं आता है उसने भी इस ग्यारस  को बड़ी ग्यारस में गिना जाता है।

 ... रिपोर्ट - हेमंत आठिया। (सागर मध्यप्रदेश)

No comments