Ad

ads ads

Breaking News

नोटिस भेज खण्ड शिक्षाधिकारी कर रहे अपना बचाव


... रिपोर्ट - रत्नम चौरसिया। (एडवोकेट)
 पुरवा/उन्नाव। विधानसभा पुरवा में एक बार फिर से शिक्षा विभाग में नोटिस-नोटिस का खेल शुरू हो गया है। बतादे कि बृहस्पतिवार को एक बार फिर से पुनः अमान्य कक्षाओं के सम्बन्ध में विद्यालयों को नोटिस भेजी गई। लेकिन इससे पहले भी इसका कोई खास असर नहीं हुआ था। केवल कार्यवाही के नाम पर जुर्माना लेकर पुनः विद्यालय सचांलित हो गए थे। 

अवगत करा दें कि पुरवा तहसील में इससे पूर्व गैरमान्यता प्राप्त विद्यालयों पर 69 लाख का जुर्माना केवल मौखिक रूप से लगाकर कार्यवाही के नाम पर वाहवाही लूटी गई। इसी क्रम में खण्डशिक्षाधिकारी पुरवा ने आज बृहस्पतिवार को  अमान्य कक्षाओ के संचालन पर विद्यालयों को नोटिस दे दी। जिससे अधिकारी केवल अपनी बचत करते दिख रहे  हैं। अगर अमान्य कक्षाएं संचालित हैं, तो अधिकारी को औचक निरीक्षण करना चाहिए। लेकिन वह ऐसा  करने से मुंह मोड़ रहे हैं। पता नही इसका क्या कारण है ?

वही इस सबके चलते अधिकारी प्रश्न चिन्ह के घेरे में आ रहे हैं ? कई विद्यालय तो हिन्दी माध्यम से मान्यता प्राप्त हैं, लेकिन अंग्रेजी माध्यम संचालित हैं। पता नहीं शिक्षाधिकारियों को जिम्मेदारी का एहसास कब होगा? शासन की नीतियों को स्थानीय प्रशासन पलीता लगाने का पुरजोर प्रयास कर रहा है। 

 

No comments