Ad

ads ads

Breaking News

आयुष्मान भारत योजना के तहत दी जानकारी

     

लखीमपुर खीरी। आयुष्मान भारत योजना के अन्तर्गत कलेक्ट्रेट सभागार मे सी0एस0सी0 ई-गवर्नेस सर्विसेस इण्डिया लि0 द्वारा एक प्रशिक्षण  आयोजित किया गया। जिसकी अध्यक्षता जिलाधिकारी शैलेन्द्र कुमार सिंह ने की। इस मौके पर डिजिटल सेवा काॅमन सर्विस सेन्टर संचालकों को योजना के बारे मे जानकारी दी गयी कि संचालकों को पात्र लाभार्थी से जोड़ने और उनका कार्य बनाने की विधि समझायी गयी। इस मौके पर योजना से होने वाले लाभ पर विस्तृत चर्चा की गयी।

आयोजित प्रशिक्षण मे जिला प्रबन्धक अनुज प्रताप सिंह व शोभित श्रीवास्तव द्वारा आयुष्मान भारत के बारे मे प्रोजेक्टर के माध्यम से फार्म भरने के तरीके और भरने के दौरान होने वाली गलतियों की जानकारी के बारे मे जागरूक किया गया, तथा इसी क्रम मे ए0सी0एम0ओ0 डा0 बी0सी0 पन्त, अतरिक्त मजिस्टेªट स्वाती शुक्ला और पीएमजीदिशा समन्वयक पवन दीक्षित ने योजना के बारे मे बताया।

इसी क्रम मे अनुज प्रताप सिंह ने संचालकों को सबसे पहले बताया कि इस योजना मे सिर्फ उन्हीं लोगों को योजना का लाभ दिया जायेगा जिन लोगों का नाम 2011के सेक (सोसल इकनाॅमिक काष्ट सेसेज) डेटा मे दर्ज है इसके अलावा किसी अन्य का नाम इस योजना मे नहीं जोड़ा जा सकता है। सिर्फ 2011 के बाद जन्मे बच्चे या बहू को जोड़ा जा सकता है वह भह जन प्रमाण-पत्र और विवाह पंजीकरण प्रमाण-पत्र के द्वारा इस योजना मे लोगों के नाम सर्च करके दर्ज परिवार के लोगों को जोड़ा जा सकता है।

इस योजना मे जुड़ने वाले लोगों और डेटा मे मौजूद लोगों का नाम राशन कार्ड मे होना आवश्यक है संचालकों के नाम खोजकर पात्र लोगों का वेरिफिकेशन करना है, और लोगों के डाॅक्यूमेंट और फोटो अपलोड करने है, उसके बाद डिटेल दर्ज फार्म अपू्रवल होने के बाद कार्ड प्रिन्ट निकालकर लोगों को देना है। जिसके लिए लोगों से 30 रूपये चार्ज लिया जा सकेगा। अनुज प्रताप सिंह ने बताया कि सभी संचालकों को विशेष ध्यान रखना है कि जिन लोगों का नाम सर्च कर रहे हैं और जो राशनकार्ड मे हैं उन परिवार से ऐसे लाभार्थियों का डेटा पहले अपलोड करना है, जो दोनों जगह पर मैंच कर रहा है नहीं तो ऐसे फार्म रिजेक्ट कर दिया जायेगा और परिवार को लाभ नहीं मिलेगा। पहला जोड़ने के बाद फिर अन्य लोगों को जोड़ा जा सकता है जिनका नाम और डेटा मे 60 फीसदी भी मैंच कर सकता है तभी कार्ड बनाया जा सकता है।

...रिपोर्ट - हिमांशु श्रीवास्तव। (लखीमपुर खीरी)