Ad

ads ads

Breaking News

देश के भविष्य के साथ हो रहा खिलवाड़



.....रिपोर्ट- रत्नम चौरसिया एडवोकेट
पुरवा/उन्नाव। शिक्षा से समाज का विकास सम्भव है । सरकार की नीति सर्व शिक्षा अभियान के तहत सबको शिक्षित कर समाज में समान अधिकार देना है। परन्तु शिक्षा के माफिया इसको खुली चुनौती दे रहें हैं। बच्चे जो देश का भविष्य हैं, उनके भविष्य के साथ खिलवाड़ करने में नहीं चूक रहे हैं ।
      आपको अवगत करा दें कि मंगतखेड़ा स्थित पंडित लालता प्रसाद  सीनियर सेकेन्ड्री स्कूल में अमान्य कक्षाएं इंटर तक चलाई जा रही हैं, और अभिभावकों को यू पी बोर्ड की मान्यता इंटर तक बताकर बच्चों को फर्जी मार्कशीट भी दी जा रही है। इसका खुलासा तब हुआ जब एक बच्चा दूसरे विद्यालय में प्रवेश के लिए गया, तो उस विद्यालय ने फर्जी मार्कशीट बताकर प्रवेश देने से   मना कर दिया । सभी शिक्षार्थियों ने उपजिलाधिकारी को आज प्रार्थना पत्र दिया जिसमें उपजिलाधिकारी महोदय पुरवा ने दूरभाष पर जानकारी दी कि, डी  आई ओ एस उन्नाव को मामले की जांच के लिए निर्देशित किया गया है ।
खण्ड शिक्षाधिकारी असोहा से दूरभाष पर जानकारी की गई तो उन्होंने बताया कि विद्यालय की मान्यता कक्षा आठ तक परिषद से हिंदी बोर्ड की है ।
अब प्रश्न यह उठता है कि, प्रदेश सरकार की मंशा के अनुरूप अमान्य विद्यालय व अमान्य कक्षाएं न चलने दी जाएं परन्तु क्षेत्र के शिक्षाधिकारी इसे अनदेखा क्यों कर रहे हैं ? यदि शिक्षाधिकारियों को  जानकारी नही है तो वह क्षेत्र में भ्रमण व निरीक्षण किस बात का कर रहें हैं, और यदि जानकारी है तो उनमें ताला क्यों नहीं लगाया जा सका ? इन्हीं सभी गतिविधियों से यह पता चलता है कि शिक्षाधिकारी अपनी ड्यूटी किस तरह निभा रहे हैं और सरकार के निर्देशों को खुलेआम चुनौती दे रहे हैं। जबकि कई बार विभिन्न समाचार पत्रों में अमान्य विद्यालय संचालकों व अमान्य कक्षाओं के विरोध में खबरें प्रकाशित भी हो चुकी है। किन्तु खाऊ-कमाऊ नीति के चलते अब तक नतीजा सिफर ही रहा है।