Ad

ads ads

Breaking News

आतंकियों ने पुलिसकर्मियों के परिजनों का किया अपहरण

 
 
सुरक्षाबलों की कार्रवाई से बौखलाए आतंकियों ने बदला लेने के लिए अब पुलिसकर्मियों के परिजनों का अपहरण करना शुरू कर दिया
जम्मू-कश्मीर। सुरक्षाबलों की कार्रवाई से बौखलाए आतंकियों ने बदला लेने के लिए अब पुलिसकर्मियों के परिजनों का अपहरण करना शुरू कर दिया है। पिछले 36 घंटों में आतंकियों ने कश्मीर के अलग-अलग हिस्सों से पुलिसकर्मियों के 9 रिश्तेदारों का अपहरण कर लिया है।
जबकि एक अन्य जवान के भाई को अगवा करने के बाद छोड़ दिया। वहीं, गत बुधवार को अगवा किए गए पुलिसकर्मी के बेटे का अभी तक कोई सुराग नहीं मिला है। वादी में बीते चौबीस घंटे के भीतर पुलिसकर्मियों के बेटों व भाई को अगवा करने की चार वारदात हो चुकी हैं।
गुरुवार को पहली घटना पुलवामा जिले के त्राल क्षेत्र के गांव मिडूरा की है। आतंकी पुलिस के जवान गुलाम हसन के घर आए और उसके बेटे नसीर अहमद को अगवा करके ले गए। इसी गांव में आतंकवादियों ने एक स्पेशल पुलिस आफिसर (एसपीओ) की भी जमकर पिटाई की।
पुलवामा जिले के नमन गांव के रहने वाले हेड कांस्टेबल अब्दुल सलाम के बेटे मोहम्मद शफी मीर को भी आतंकियों ने अगवा कर लिया। इसी तरह आतंकियों ने पुलवामा जिले के ही कंगन क्षेत्र में एक पुलिस वाले के भाई की पिटाई कर उसे अगवा कर लिया, लेकिन बाद में उसे छोड़ दिया। वही पुलिस ने आतंकियों की तलाश तेज कर दी है।
गौरतलब है कि बुधवार रात को त्राल में आतंकवादियों ने पुलिस कर्मी रफीक अहमद राथर के बेटे आसिफ रफीक राथर को अगवा कर लिया था। उसकी मां व कश्मीर के कई लोगों ने आतंकवादियों से उसे छोड़ने की अपील की है। गुरुवार को उसके सहपाठियों ने मानवता के आधार पर उसे रिहा करने को कहा।