Ad

ads ads

Breaking News

हवा में कृषि विभाग ने विधानसभा अध्यक्ष से करा दिया था शिलान्यास, जमीन अभी भी नहीं मिली

खँडहर में तब्दील हो चुका कृषि भवन 

उन्नाव। बीघापुर नगर पंचायत की सब्जी मंडी में बने जर्जर राजकीय बीज भंडार के नए भवन का विधानसभा अध्यक्ष से बिना जमीन मिले कृषि विभाग ने शिलान्यास तो करा दिया। भवन कहाॅ निर्माण हो, इसके लिए संबधित अधिकारी 6 महीनों से भूमि की तलाश में हैं। विभाग अधिकारियों द्वारा बिना भूमि के शिलान्यास कराने के अजूबे कारनामे की क्षेत्रीय लोगों में चर्चा है ।
नगर पंचायत की सब्जी मंडी में कई दशक पूर्व राजकीय बीज भंडार के भवन का निर्माण किया गया था, जो आज पूरी तरह से जर्जर हो चुका है। जर्जर भवन की शिकायत क्षेत्रीय किसानों ने विधानसभा अध्यक्ष से की कि उन्हें भी पानी में भीगा व सड़ा गला बीज गोदाम से मिलता रहता है। विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित की सकारात्मक पहल के परिणाम स्वरूप प्रदेश सरकार के कृषि विभाग ने नए भवन के लिए 82 लाख रुपए की धनराशि स्वीकृत कर दी। इस पर विभाग के जिला के आला अफसर हरकत में आए और विधानसभा अध्यक्ष से वाहवाही के लूटने के चक्कर में आईटीआई मानपुर के कार्यक्रम में 24 जनवरी 2018को उनसे शिलान्यास करा दिया। और शिलान्यास पत्थर उठाकर कार्यालय में रख दिया, 6माह बीत जाने के बाद भी वह पत्थर कार्यालय में रखा हुआ है।
जर्जर कृषि भवन 
विभाग भूमि तलाश के लिए हाथ पैर मार रहा है। क्षेत्रीय लोगों का कहना है कि जब विभाग के पास भूमि चिन्नहित नहीं थी तो ऐसे में शिलान्यास कराने की कौन सी जल्दबाजी थी, शायद विधानसभा अध्यक्ष से जिले के आला अफसर वाहवाही बटोरने के अंदाज में ही कार्य कर बैठे। भवन निर्माण के लिए प्रक्रिया भी पूरी हुए कई माह हो गए उसके बाद भी भूमि की तलाश विभाग जारी किये है। जहां पुराना भवन बना हुआ है वहां नई डिजाइन के अनुसार भूमि पर्याप्त नहीं है बता कर विभाग के आला अधिकारियों ने नगर पंचायत से भूमि संबंधी प्रस्ताव मांगे। नगर पंचायत ने दो स्थानों पर भूमि के प्रस्ताव दिए किंतु विभाग के अवर अभियंता ने प्रस्ताव को खारिज कर दिया ऐसे में भवन का निर्माण कई महीनों से अधर में लटका हुआ। किसानों को की शिकायत जस की तस बनी हुई है।
उपजिलाधिकारी प्रभु दयाल का कहना है कि भवन के लिए नगर पंचायत में कई भूमि स्थलों का चयन किया किंतु अवर अभियंता ने उसे फेल कर दिया। अब पुनः दो भूमि स्थलों को प्रस्तावित किया है। विभागीय स्वीकृत मिलने पर उन्हें सौंप दिया जाएगा।

No comments