Ad

ads ads

Breaking News

मुन्ना बजंरगी की जेल में हुई ह्त्या

मुन्ना बजरंगी का फाइल फोटो
डेस्क। बृजेश सिंह 90 के दशक में दाऊद के लिए काम करता था।  जब दाऊद के जीजा हसीना पारकर के पति की हत्या अरुण गवली गैंग ने करवाई तो दाऊद ने आरोपी की हत्या की सुपारी बृजेश सिंह को दी थी।  पश्चिमी उत्तर प्रदेश का डॉन सुनील राठी इस समय जेल में बंद है। 
खास बातें- 
1. सुनील राठी का क्यों नाम आ रहा है सामने 
2. सुनील से मुन्ना की नहीं थी कोई दुश्मनी 
3. इस हत्याकांड से उठे बड़े सवाल 
जेल में बंद पश्चिमी उत्तर प्रदेश का डॉन सुनील राठी
बागपत जेल में मारा गया कुख्यात बदमाश मुन्ना बजरंगी को सबसे बड़ा खतरा डॉन बृजेश सिंह से था।  बृजेश सिंह इस समय बनारस जेल में बंद है. मुन्ना बजरंगी मुख्तार अंसारी के लिए काम करता था।  बृजेश सिंह को भी दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने उड़ीसा से गिरफ्तार कर और उस पर मकोका लगाया था।  बृजेश सिंह का सगा भतीजा सुशील सिंह यूपी में बीजेपी से विधायक है।  उसको वाई प्लस सिक्योरिटी मिली हुई है।  सुशील सिंह ने कहा था कि मुन्ना बजरंगी और मुख्तार उसकी हत्या करवा सकते हैं।  बृजेश सिंह 90 के दशक में दाऊद के लिए काम करता था।  जब दाऊद के जीजा हसीना पारकर के पति की हत्या अरुण गवली गैंग ने करवाई तो दाऊद ने आरोपी की हत्या की सुपारी बृजेश सिंह को दी थी।  आरोपी मुम्बई के जेजे हॉस्पिटल में भर्ती था। बृजेश सिंह अपने गुर्गो के साथ जेजे हॉस्पिटल में एके-47 लेकर घुसा और आरोपी के साथ साथ जो भी सामने आया उसकी हत्या कर दी. बृजेश जेजे हॉस्पिटल हत्याकांड से बरी हो चुका है। 
अब मुन्ना बजरंगी हत्याकांड के तार पश्चिमी उत्तर प्रदेश के एक और डॉन सुनील राठी से जुड़ रहे हैं।  वह भी कई मामलों में जेल में बंद है।  अभी तक इस बात का कोई सुराग नहीं मिल पाया है कि मुन्ना बजरंगी को मारने में सुनील राठी का नाम क्यों सामने आ रहा है क्योंकि दोनों का आपस में दूर-दूर तक किसी भी मामले में संबंध नहीं रहा है। वहीं कुछ दिन पहले ही मुन्ना बजरंगी की पत्नी सीमा सिंह ने सीएम योगी से मिलकर मुन्ना बजरंगी की हत्या की आशंका जताई थी।
वहीं सवाल इस बात का भी उठ रहा है कि जेल के अंदर पिस्तौल कैसे पहुंची है. एक दिन पहले ही मुन्ना बजरंगी को बागपत जेल लाया गया था. क्या उसको मारने की साजिश में प्रशासन और बड़े लोगों का भी हाथ है।