Ad

ads ads

Breaking News

नहीं रहे गीतकार गोपालदास नीरज

  • 93 वर्ष की उम्र में हुआ निधन, 
  • दिल्‍ली के एम्‍स में ली आखिरी सांस
  • अभी 8:20 पर ली अंतिम सांस 
पद्म श्री और पद्म भूषण से सम्मानित प्रख्यात गीतकार गोपाल दास नीरज की मंगलवार सुबह तबीयत बिगड़
गई। आगरा में वो अपनी बेटी कुंदनिका शर्मा के घर आए हुए थे। सुबह नाश्ते के बाद सांस लेने में तकलीफ होने पर उन्हें कमला नगर के एक हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया। यहां सुधार न होने पर दीवानी कचहरी के पास स्थित लोटस हॉस्पिटल ले जाया गया। गोपाल दास को जीवन रक्षक प्रणाली (वेंटिलेटर) पर रखा गया। मंगलवार की  देर शाम सात बजे उनकी तबीयत में सुधार हुआ। लेकिन गुरुवार अचानक तबीयत बिगड़ गई, जिसके बाद किसी दवा ने असर करना बंद कर दिया।
नाश्ता करते वक्त बिगड़ी थी तबीयत

कुंदनिका शर्मा बल्केश्वर में रहती हैं। 94 वर्षीय गोपाल दास नीरज सुबह नाश्ते के बाद कॉफी पी रहे थे। तभी उन्हें सीने में तकलीफ महसूस हुई। सांस उखड़ने लगी। पास के ही अस्पताल सांई ट्रॉमा सेंटर ले जाया गया।चेकअप में पता चला कि ब्लड प्रेशर बहुत कम रह गया है। उनका उपचार कर रहे डॉक्टर अरविंद जैन ने बताया कि उनके सीने में संक्रमण है। वो निमोनिया से भी पीड़ित हैं।  इस पर उन्हें दीवानी कचहरी के पास स्थित लोटस हॉस्पिटल ले जाया गया। यहां से दिल्ली स्थित एम्स ले जाने की तैयारी की जाने लगी लेकिन शाम सात बजे ब्लड प्रेशर सामान्य हो गया। यूरिन आदि की रिपोर्ट भी सामान्य आई। इस पर उन्हें यहीं रखा गया।

जानिये कौन थे नीरज 

चार जनवरी 1925 को इटावा के पुरावली गांव में जन्मे गोपाल दास नीरज फिलहाल अलीगढ़ के मैरिस रोड जनकपुरी में रहते हैं। वो अलीगढ़ के धर्म समाज इंटर कॉलेज में प्रवक्ता भी रहे हैं। 


तीन बार मिला फिल्म फेयर अवार्ड


मेरठ कॉलेज मेरठ में भी हिंदी का शिक्षण कार्य किया है। इससे पहले कानपुर के डीएवी कॉलेज में क्लर्क का काम किया। उन्हें 1970, 1971, 1972 में फिल्म फेयर अवार्ड मिले।  1991 में भारत सरकार ने पद्म श्री से अलंकृत किया तो 1994 में यूपी सरकार ने यशभारती से। इसके बाद 1994 में उन्हें पद्म भूषण दिया गया। पिछली सपा सरकार में उन्हें भाषा संस्थान का अध्यक्ष बनाकर कैबिनेट मिनिस्टर का दर्जा दिया गया।


16 जून को भी बिगड़ी थी तबीयत

हाल ही में 16 जून को भी गोपाल दास नीरज की तबीयत बिगड़ गई थी। तब वो अलीगढ़ में थे। तब उन्हें निमोनिया हुआ था। काफी दिन उपचार के बाद अस्पताल से छुट्टी मिली। पिछले वर्ष तबीयत और ज्यादा खराब रही थी। तब 18 नवंबर को एम्स में भर्ती कराया गया था। 21 नवंबर को उनका प्रोस्टेट का ऑपरेशन हुआ था।

No comments