Ad

style="width:640px;height:100px;" alt="ads" /> ads

Breaking News

पीड़ित परिजनों की शिकायत पर सीबीआई ने कसा शिकंजा



पीड़ित परिजनों की शिकायत पर सीबीआई टीम ने एक बार फिर माखी गांव पहुंच कर  कई लोगों से बातचीत की 

उन्नाव। दुष्कर्म मामले में पीड़ित परिजनों की शिकायत पर सीबीआई टीम ने एक बार फिर माखी गांव पहुंच कर  कई लोगों से बातचीत की। जिसके बाद उन्हें लेकर थाना पहुंची। थाने में पूछताछ के बाद सीबीआई की टीम ने गांव से एक काली फॉर्च्यूनर को लेकर थाने में खड़ा करा दिया साथ ही लिखा-पढ़ी भी की गई। 

दुष्कर्म पीड़िता के परिवारीजनों ने हाईकोर्ट में हुई सुनवाई के दौरान शिकायत की थी कि आरोपी लोगों की गिरफ्तारी नहीं हो रही है। साथ ही उनकी गाड़ी और असलहे भी बरामद नहीं किए जा रहे हैं। जिसके बाद सीबीआई ने पीड़ित परिजनों की शिकायत पर उक्त कार्रवाई की।

केंद्रीय जांच ब्यूरो की 4 सदस्य टीम मंगलवार देर शाम माखी गांव पहुंची। सीबीआई के पहुंचने की खबर जंगल में आग की तरह गांव में फैल गई। गांव में सनसनी मच गई। सीबीआई की टीम के सदस्य दुष्कर्म पीड़ित परिजनों की शिकायत पर जांच शुरू की और गांव वालों से बातचीत की सीबीआई की टीम कई लोगों को लेकर माखी थाना पहुंची जहां पर उनसे पूछताछ की। इसके बाद एक बार फिर सीबीआई की टीम मांखी गांव पहुंची और वहा से एक काली फॉर्च्यूनर यूपी 35 ए एन 6061 लेकर वापस थाने आ गई। जिसको  लिखा पढ़ी के बाद माखी थाने में खड़ी करा दिया। 

इस संबंध में थानाध्यक्ष माखी ने बताया कि गाड़ी किसकी है और कहां से आई इस विषय में उन्हें कोई जानकारी नहीं है। थाने में केवल गाड़ी दाखिल की गई है। यह गाड़ी भाजपा विधायक के भाई जयदीप सिंह उर्फ अतुल सिंह के नाम है।

दुष्कर्म मामले में केंद्रीय जांच ब्यूरो लगातार जांच कर रही है हाईकोर्ट इलाहाबाद में स्टेटस रिपोर्ट दाखिल करने के बाद केंद्रीय जांच ब्यूरो की जांच में तेजी आई और एक के बाद एक पुलिस अधिकारियों से लेकर अन्य लोगों से पूछताछ कर रही है। पुलिस अधिकारियों में सीबीआई ने तत्कालीन पुलिस अधीक्षक पुष्पांजलि देवी से पूछताछ कर चुकी है। 

इसके बाद तत्कालीन पुलिस अधीक्षक नेहा पांडे से भी पूछताछ करने की चर्चा है। जिला अस्पताल में रेडियोलॉजिस्ट पद पर तैनात डॉक्टर एस पी जोहरी से भी सीबीआई दो बार पूछताछ कर चुकी है अब तक दस लोग सीबीआई की गिरफ्त में है। इधर पास्को कोर्ट में आगामी 22 जून को विधायक कुलदीप सिंह सेंगर और शशि सिंह की पेशी है। पिछली तारीख में योगी आदित्यनाथ के सीतापुर दौरे के कारण सुरक्षा व्यवस्था के कारणों से हाजिरी माफी की अर्जी अदालत में दी गई थी। जिसके बाद 22 जून की तारीख दी गई थी।

No comments