Ad

ads ads

Breaking News

लोगो की जान बचाने के लिए फाइटर पायलट ने दी अपनी जान

 गुजरात जगुआर हादसा : एयर कोमोडोर संजय चौहान चाहते तो प्लेन से इजेक्ट हो सकते थे अपनी जान बचा सकते थे।




लखनऊ। यूपी के लाल संजय चौहान अब इस दुनिया में नहीं हैं, वो शहीद हो गए, आखिरी सांस तक वो कोशिश करते रहे। अपने जगुआर विमान को खाली जमीन पर उतारने की कोशिश उस विमान को आबादी वाले इलाके में ना गिरने देने की और कोशिश लोगों की जान बचाने की।

एयर कोमोडोर संजय चौहान चाहते तो प्लेन से इजेक्ट हो सकते थे अपनी जान बचा सकते थे लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया उन्हें समझ आ गया था, कि जगुआर में खराबी आ गई है और उनका फाइटर प्लेन क्रैश हो सकता है।
वो नहीं चाहते थे कि प्लेन आबादी वाली जगह में गिरे और निर्दोष लोगों की जान चली जाए इसलिए उन्होंने प्लेन को खाली जमीन पर लैंड कराने का प्रयास किया उन्होंने अपनी जान दे दी ताकि लोगों की जान बच सके।

उनको फाइटर प्लेन उड़ाने का अच्छा अनुभव था वे 3800 घंटे की उड़ान भर चुके थे वे भारतीय वायुसेना के 17 विमान उड़ा चुके थे उन्होंने कई विदेशी विमानों की भी टेस्टिंग की थी उन्होंने राफेल भी उड़ाया था।
आपको बता दें कि गुजरात के कच्छ जिले में उनका लड़ाकू विमान जगुआर दुर्घटनाग्रस्त हो गया इस हादसे में उनकी जान चली गई।

चार दिन पहले ही वो अपने परिवार से मिलने लखनऊ आए थे उन्होंने मां से जल्दी वापस लौटने का वादा किया था लेकिन आई उनकी मौत की खबर जिसने  परिवार को तोड़ कर रख दिया।

No comments