Ad

style="width:640px;height:100px;" alt="ads" /> ads

Breaking News

बसपा के पूर्व विधायक का निधन


डेस्क। मायावती के करीबियों में माने जाने वाले बसपा के पूर्व विधायक मोहम्मद जलील खां का आज तड़के निधन हो गया। रमज़ान के दौरान बुधवार की रात सहरी के वक्त जलील खां की तेज सांस फूलने लगी और सीने में तेज दर्द होने लगा। जिसपर परिजनो ने उन्हें तत्काल जिला अस्पताल लेकर पहुंचे, जहां पर डाक्टरों ने उन्हें रेफर कर दिया। जिसके बाद परिजनों ने उन्हें एक निजी अस्पताल लेकर पहुंचे जिस दौरान उनकी मौत हो गई। इसकी खबर पाते ही जिले में शोक की लहर दौड़ गई पड़ी, बेहद मिलनसार और ईमानदार छवि वाले पूर्व विधायक के निधन से उनके पैतृक आवास पर लोगों का तांता लग गया है।
पूर्व विधायक  जलील खां जब सहरी करने उठे तो उन्हें तकलीफ हुई। धीरे धीरे उनकी हालत गंभीर होती गई। जब तक उचित इलाज मिल पाता तब तक उन्होंने अंतिम सांस ले ली। कई दशकों से जिले की राजनीति में अपनी एक अलग छवि रखने वाले श्री खां ने 2007 में पहला विधानसभा चुनाव बसपा के टिकट पर लड़ा और विधायक बनें। अपने पांच साल के विधायक के कार्यकाल में ठेके पट्टे के कमीशन से दूर रहे। इसके बाद उन्होंने 2012 में टिकट न मिलने के कारण निर्देलीय चुनाव लड़ा लेकिन पराजित हुए। फिर बसपा सुप्रीमो ने उन्हें वापस बुलाया और फिर 2017 में टिकट दिया। लेकिन इसमें भी वे हार गए। हालांकि इसके बाद भी उन्होंने समाज के अपनी जिम्मेदारी नही छोड़ी। उनके पिता का नाम स्वर्गीय अब्दुल हनी है। स्वर्गीय खां अपने पीछे चार पुत्र और एक पुत्री छोड़ गए हैं। उनके निधन की खबर पर पैतृक आवास जमुनिया बाग मुगलजोत खोरहंसा आवास पर भारी भीड़ जुटी है। डीएम कैप्टन प्रभांशु श्रीवास्तव, एसपी लल्लन सिंह, बसपा नेता मसूद आलम खां, हाजी जकी ने गहरा शोक जताया है। बसपा जिला अध्यक्ष ने बताया कि पूर्व विधायक के निधन की सूचना बसपा राष्ट्रीय अध्यक्ष को दी गई है।

No comments