Ad

style="width:640px;height:100px;" alt="ads" /> ads

Breaking News

कृषि साख समितियों की सक्रियता बढ़ायें - कमिश्नर



सागर। एपीसी मीटिंग से संबंधित विभागों की समीक्षा के तारतम्य में कमिश्नर श्री मनोहर दुबे ने आज सहकारिता व विपणन विभाग के अधिकारियों की बैठक ली। बैठक में इन विभागों के उप पंजीयक, मण्डी व विपणन विभाग के संभागीय अधिकारियों सहित जिलों में पदस्थ अधिकारी भी मौजूद थे। समीक्षा के दौरान कमिश्नर श्री दुबे ने सहकारिता विभाग के उप पंजीयक को निर्देषित किया कि वे संभाग की सभी कृषि साख सहकारी समितियों को और अधिक सक्रिय बनायें, ताकि किसानों को बेहतर साख सुविधायें मिल सकें। समितियों के जरिये किसानों को खाद, बीज, उर्वरक सहजता से उपलब्ध करायें। उन्होंने कहा कि साख समितियों की कठिनाईयों का निवारण करें, दूसरे प्रदेेेशों की सहकारी समितियों की तरह सुदृढ़ करें और इन्हें कस्टमर फ्रेंडली (किसान मित्र) बनाया जाये। कमिश्नर ने विपणन विभाग के संभागीय अधिकारी से कहा कि किसी भी स्तर पर किसानों को खाद, बीज व उर्वरक के लिये कोई भी कठिनाई न होने पाये। किसानों की जरूरत के अनुसार समितियों के जरिये खाद, बीज व उर्वरक का अग्रिम उठाव कर लिया जाये। कमिश्नर श्री दुबे ने खरीफ-2018 हेतु सहकारिता विभाग द्वारा तैयार कार्यक्रम और जारी वित्त वर्ष के बीते दो माह में लक्ष्य पूर्ति की जानकारी ली। उन्होंने कहा कि किसानों को सहजता से बीज आपूर्ति करें। यदि कोई कठिनाई है तो उसका यथाशीघ्र समाधान कर लें। सहकारिता विभाग के अधिकारियों द्वारा बीज की अनुपलब्धता से किसानों को कठिनाई होने की जानकारी दिये जाने पर कमिश्नर ने कहा कि अगले बुधवार, 20 जून को पुनः इस संबंध में बैठक होगी, जिसमें सहकारिता सहित कृषि, बीज निगम एवं बीज प्रमाणीकरण से संबंधित अधिकारियों से किसानों को बीज आपूर्ति की तैयारी की समीक्षा की जायेगी। कमिश्नर श्री दुबे ने संभाग में कस्टम हायरिंग सेन्टर्स के संचालन की जानकारी ली। बताया गया कि इन सेन्टर्स का संचालन एमपी एग्रो लिमिटेड द्वारा किया जा रहा है। इसके तहत सहकारी समिति व सेन्टर के मेम्बर्स को शर्ताें के अधीन उन्नत कृषि यंत्र/उपकरण आदि उपलब्ध कराये जाते हैं।

..... रिपोर्ट- हेमंत आठिया, सागर मध्यप्रदेश

No comments