Ad

ads ads

Breaking News

अखिलेश की छवि खराब करने के लिए, योगी सरकार ने रची थी साजिश।


लखनऊ। उत्तर प्रदेश के 6 पूर्व मुख्यमंत्रियों को मिले सरकारी आवास अब लगभग खाली हो चुके हैंं, जबकि पूर्व मुख्यमंत्री एनडी तिवारी का आवास अभी तक खाली नहीं हो पाया है। गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट में पड़ी हुई याचिका पर फैसला सुनाते हुये कोर्ट ने यूपी के सभी पूर्व मुख्यमंत्रियों को 15 दिन के अंदर आवास खाली करने का आदेश दिया था।

योगी सरकार के इशारे भर एक अधिकारी ने रात भर जागकर पूरे बंगले को तहस - नहस करने का काम करवाया।

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के बंगले की मौजूदा स्थिति को लेकर एक बड़ा खुलासा हुआ है एक सुरक्षा कर्मी ने लखनऊ से प्रकाशित होने वाले एक दैनिक अखबार के संवाददाता से नाम न छापने की शर्त पर बताया कि 7 वा 8 तारीख की रात को सचिवालय से एक बड़े साहब,दो दूसरे साहब और 3 मजदूर 4 विक्रमादित्य मार्ग स्थित आवास पर आये थे। वह सभी लोग पूरी रात बंगले में ही रहे और इस दौरान बंगले और बगल वाले बंगले से तोड़ - फोड़ की कुछ आवाजें आती रहीं। फिर सुबह तड़के करीब 4 बजे वही बड़े साहब सभी लोगों के साथ बंगले से बाहर निकले और बंगले को ताला लगाकर चले गए। गौरतलब है कि जब 9 तारीख को आवास का ताला खोला गया और मुख्यमंत्री योगी के OSD ने मीडिया को बुलाकर जान बूझकर अंदर भेजा तो बंगले में कई जगह तोड़-फोड़ हो रखी थी। अब यह सत्य सामने आ गया है कि पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की छवि खराब करने के लिए साजिश के तहत उनके बंगले में तोड़फोड़ कराई गई थी।

वहीँ इस बात की जानकारी होने पर विपक्ष और सरकार के बीच आरोप-प्रत्यारोप तेज हो गए हैं। शनिवार को अखिलेश यादव ने 4 विक्रमादित्य मार्ग स्थित सरकारी आवास की चाभी राज्य संपत्ति विभाग को सौंपी थी। मीडिया ने बंगले के अंदर जाने के बाद बंगले में हुई तोड़फोड़ की तस्वीरें सोशल मीडिया वा अन्य माध्यम से वायरल कर दिया, जिसके बाद से अखिलेश यादव सरकार और ट्रोलर के निशाने पर हैं।

बांके बिहारी जी के दर्शन करने वृंदावन पहुँचे अखिलेश यादव ने जहां सरकारी अधिकारियों पर उन्हें बदनाम करने का आरोप लगाते हुए टूट-फूट की लिस्ट देने की मांग की,वहीँ ये भी कहा कि ये वही अधिकारी है जो कभी कप-प्लेट तक उठाता था और सरकार के इशारे पर इस तरह का गलत काम भी कर रहा है। अखिलेश ने कहा कि सरकार बताये हमारी वजह से क्या नुकसान हुआ है? और हम बंगले से कौन सा सरकारी सामान लेकर आये हैं, वहीँ ये भी बताये कि हमने वहां क्या-क्या छोड़ा है?

No comments