Ad

ads ads

Breaking News

आंधी तूफान के कहर से तीन की मौत दर्जनों घायल

NEWSDESK - भारत में आंधी.तूफान का कहर थमने के नाम नहीं ले रहा है। आज शाम को आए तूफान ने देश में तीन लोगों की जान ले ली। जबकि एक दर्जन से अधिक लोग घायल हो गए हैं। हालांकि मौसम विभाग के मुताबिक अभी भी आंधी.तूफान का खतरा बना हुआ है। बता दें कि आज आए तूफान ने उत्तर प्रदेश के मथुरा में दो लोगों की जान ले ली। जबकि कई लोग घायल बताए जा रहे हैं। वहीं असम के कोकराझार में भी एक महिला की मौत हो गई। और 11 लोग घायल बताए जा रहे हैं। मथुरा के सुरीर इलाके में महिला समेत दो लोगों की मौत हो गई है। वहीं तूफान के चलते कई मकान सैकड़ों पेड़ और बिजली के खंभे भी गिर गए। नौहझील इलाके में करीब 40 किलोमीटर क्षेत्र में गांव चांदपुर खुर्द रायपुर खुशलागढ़ी मरहला मुक्खा दलितपुर मानागढ़ी आदि गांवों से तूफान गुजरा। जानकारी के मुताबिक तूफान का असर इस इलाके में करीब 20 मिनट तक रहा। सबसे पहले तेज आंधी चली। इसके बाद तूफान के वेग में इजाफा होता चला गया।
वही कुछ देर के बाद तेज बारिश भी शुरू हो गई। और इसके बाद ओले भी पड़े। तूफान आते ही बिजली कट गई। कई जगहों पर बिजली के खंभे गिर गए। मकान और पेड़ भी गिरे। वहीं तूफान के दौरान अधिकतर लोग अपने घरों में ही दुबके रहे। जब तूफान गुजर गया तो लोग अपने घरों से बाहर निकले। तूफान के अलर्ट और रात में बदले मौसम तेज हवाओं ने लोगों की धड़कनें बढ़ा दीं। दिन में जब भी बादल गहराए और हवा चली लोगों के माथे पर चिंता की लकीरें बढ़ जातीं। मंगलवार का दिन तूफान की आशंका में ही बीता। स्कूलों की छुट्टी तो थी ही स्मारकों और बाजारों में भी लोग नहीं आए।
बार बार बदलते मौसम के मिजाज के कारण तूफान का डर रात तक बना रहा जिसके कारण सड़कों पर सन्नाटा छाया रहा। मौसम विभाग के पूर्वानुमान केंद्र के मुताबिक बुधवार को भी आंधी के आसार बने रहेंगे। आगरा सहित पूरे पश्चिमी उत्तर प्रदेश के जिलों में धूल भरी आंधी आ सकती है। मंगलवार को ताजमहल के दीदार की हसरत पर तूफान का खौफ भारी पड़ा। करीब दो हजार सैलानियों ने सोमवार के मुकाबले ताज का दीदार कम किया। तूफान की दहशत के बाद सुबह सूर्योदय से 11 बजे तक तो पर्यटक ताजमहल में नजर आए उसके बाद सैलानियों की संख्या में गिरावट आनी शुरू हो गई। दोपहर तीन बजे के बाद तो लोग तूफान के डर से ताज पहुंचे ही नहीं। शाम को बादलों की लुकाछिपी के साथ पर्यटक होटलों में पहुंच गए। केवल ताजमहल ही नहीं आगरा किला सिकंदरा फतेहपुर सीकरी समेत सभी स्मारकों में पर्यटकों की संख्या कम नजर आई। दोपहर से ही सभी स्मारकों को जाने वाले रास्तो पर सन्नाटा नजर आया।  वहीं अंदर भी गिने चुने  पर्यटक ही नजर आए। खौफ शहर के बाजारों में भी नजर आया।

No comments