Ad

style="width:640px;height:100px;" alt="ads" /> ads

Breaking News

स्वीडन के प्रधानमंत्री ने प्रोटोकॉल तोड स्टॉकहोम में पीएम मोदी का शानदार स्वागत

डेस्क। स्वीडन और ब्रिटेन के पांच दिवसीय दौरे के पहले चरण में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार देर रात राजधानी स्टॉकहोम पहुंच गए, जहां स्वीडन के प्रधानमंत्री स्टेफान लोफवेन ने प्रोटोकॉल तोड़ एयरपोर्ट पर उनकी अगवानी की। पीएम मोदी भारतीय समुदाय के लोगों से भी मिले, जिन्होंउने उत्सापहपूर्वक उनका स्वापगत किया। प्रधानमंत्री रात में जब स्वीडन पहुंचे तो उनसे मिलने और उन्हें  एक नजर देखने के लिए भाारतीय समुदाय के सैकड़ों लोगों की भीड़ थी। पीएम मोदी ने भी उन्हें निराश नहीं किया और पास जाकर उनका अभिवादन स्वीोकार किया। उन्होंीने कई लोगों से हाथ भी मिलाए।
पीएम मोदी की स्वीडन यात्रा इस मायने में ऐतिहासिक है कि 30 साल के बाद कोई भारतीय प्रधानमंत्री इस देश की यात्रा पर है। यहां उनका काफी व्यस्त कार्यक्रम है। वह मंगलवार को अपने स्विडिश समकक्ष लोफवेन के साथ नवाचार एवं प्रद्यौगिकी से जुड़े मुद्दों पर चर्चा करेंगे। स्वीडन भी पीएम मोदी की इस यात्रा को काफी महत्व दे रहा है। इसी के मद्देनजर स्वीडन के प्रधानमंत्री प्रोटोकॉल तोड़ते हुए भारतीय प्रधानमंत्री की अगवानी के लिए खुद एयरपोर्ट पहुंचे। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ताय रवीश कुमार ने ट्वीट कर बताया कि प्रधानमंत्री मोदी और उनके स्विडिश समकक्ष लोफवेन एक ही गाड़ी से एयरपोर्ट से होटल के लिए रवाना हुए।
प्रधानमंत्री मोदी इस यात्रा के दौरान भारत और स्वीनडन के बीच व्यापार और निवेश सहित कई महत्वपूर्ण क्षेत्रों में द्विपक्षीय सहयोग को मजबूत बनाने पर जोर देंगे। इस दौरान दोनों देशों के बीच कई द्विपक्षीय समझौते होने की उम्मीबद है। प्रधानमंत्री मोदी मंगलवार को पहले इंडिया-नोर्डिक शिखर सम्मेीलन में हिस्सां लेंगे। स्वीगडन, नॉर्वे, फिनलैंड, डेनमार्क और आइसलैंड देशों को सामूहिक रूप से नोर्डिक देश कहा जाता है। इस दृष्टिकोण से भारत के लिए यह बड़ा मौका है कि क्षेत्र के पांच देशों की सरकारों के प्रमुखों के साथ प्रधानमंत्री मोदी की बैठक होगी। इसके बाद आज ही वह ब्रिटेन के लिए रवाना हो जाएंगे, जहां वह राष्ट्र मंडल देशों के प्रमुखों की एक बैठक में शामिल होंगे। लंदन में उनकी ब्रिटेन की प्रधानमंत्री थेरेसा मे से द्विपक्षीय मुलाकात भी होगी।
पीएम मोदी की 16 अप्रैल से शुरू हुई स्वी डन और ब्रिटेन की यात्रा 21 अप्रैल को समाप्त होगी। प्रधानमंत्री मोदी ने स्वीडन की यात्रा पर रवाना होने से पहले कहा था वह व्यापार, निवेश और स्वच्छ ऊर्जा समेत विभिन्न क्षेत्रों में दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय साझेदारी गहरा बनाने को लेकर आशान्वित हैं। उन्होंकने कहा था, भारत और स्वीडन के बीच दोस्ताना रिश्ता है। हमारी साझेदारी लोकतांत्रिक मूल्यों तथा खुले, समावेशी एवं नियमों की बुनियाद पर टिकी वैश्विक व्यवस्था के प्रति कटिबद्धता पर आधारित है। स्वीडन हमारे विकास पहलों में एक मूल्यवान साझेदार है।

No comments