Ad

style="width:640px;height:100px;" alt="ads" /> ads

Breaking News

अखिलेश ने दिखाई दरियादिली, नहीं जाएंगे विधान परिषद

डेस्क। अखिलेश यादव ने दरियादिली दिखाते हुए खुद विधान परिषद न जाते हुए नरेश उत्तम पटेल को भेजा है। सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव वर्तमान में विधान परिषद के सदस्य हैं। जिनका कार्यकाल पाॅच मई को पूरा हो रहा है। बताते चलें कि अखिलेश ने स्वयं को उच्च सदन में न जाकर पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम को भेजा है।
दरअसल, अखिलेश यादव ने 2000 में कन्नौज लोकसभा उपचुनाव से अपने सियासी सफर की शुरुआत की थी। इसके बाद वे तीन बार सांसद चुने गए। वर्ष 2012 में सपा की पूर्ण बहुमत की सरकार में अखिलेश यादव सूबे के मुख्यमंत्री बने और विधान परिषद के सदस्य चुने गए, लेकिन अब उनका कार्यकाल 5 मई को खत्म हो रहा है। अखिलेश अभी तक राज्य सभा और विधानसभा के सदस्य नहीं रहे हैं।
बताते चले कि अखिलेश यादव ने 2019 का लोकसभा चुनाव कन्नौज से लड़ने की इच्छा जाहिर की है। कन्नौज से उनकी पत्नी डिंपल यादव फिलहाल सांसद है। लिहाजा 2019 से पहले अखिलेश किसी भी सदन मे मौजूदगी दर्ज नहीं करा पाएंगे। क्योंकि उन्होने विधान परिषद नही जाने का फैसला किया है। कमोबेश यही स्थिति बसपा सुप्रीमों मायावती के साथ भी है, जिन्होने पिछले साल राज्यसभा से इस्तीफा दे दिया था।
विधान परिषद में 13 सदस्य होंगे निर्विरोध निर्वाचित
यूपी विधान परिषद में 13 सदस्यों का निर्विरोध चुना जाना तय है. बीजेपी के 10 और उसके सहयोगी अपना दल (एस) से एक सदस्य उच्च सदन पहुंचेंगे. वहीं, सपा के समर्थन से बसपा के भीमराव अम्बेडकर और सपा के नरेश उत्तम पटेल विधान परिषद जाएंगे. बीजेपी के दो मंत्री महेन्द्र सिंह और मोहसिन रजा के अलावा सरोजिनी अग्रवाल, बुक्कल नवाब, यशवंत सिंह, जयवीर सिंह, विद्यासागर सोनकर, विजय बहादुर पाठक, अशोक कटारिया और अशोक धवन भी उच्च सदन जाएंगे. अपना दल के आशीष पटेल भी विधान सभा जाएंगे.

No comments