Ad

ads ads

Breaking News

दुष्कर्म पीड़िता ने सीबीआई के सामने दोहराया आरोप

उन्नाव - रेप कांड की जांच कर रही सीबीआइ की टीम ने गुरुवार को मुख्यालय में आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर और पीडि़ता से पूछताछ की। पीड़िता  ने पिछले वर्ष चार जून को विधायक द्वारा दुष्कर्म किए जाने का आरोप दोहराया लेकिन विधायक इससे इन्कार करते रहे। बताया जा रहा है कि दोनों का आमना सामना कराया गया लेकिन इसकी पुष्टि नहीं हो सकी।
उत्तर प्रदेश की सियासत में भूचाल ला देने वाले उन्नाव प्रकरण की जांच में सीबीआइ की टीम तेजी के साथ  जुटी है। गुरुवार को किशोरी और विधायक से सीबीआइ के अफसरों ने सच जानने की कोशिश की। किशोरी अपने आरोपों पर अडिग रही। उसने बताया कि शशि सिंह उसे लेकर गई और विधायक ने नौकरी का झांसा देकर दुष्कर्म किया। सूत्रों के मुताबिक विधायक ने किशोरी की बात काटने की कोशिश की। विधायक ने कहा कि जिस दिन की घटना बताई जा रही है उस दिन वह कानपुर के एक कार्यक्रम में थे।
सीबीआइ ने उस कार्यक्रम की वीडियो फुटेज लेकर पड़ताल कर रही है। सीबीआइ के अफसरों ने दोनों से पूर्व में अलग अलग हुई पूछताछ के तथ्यों को भी सामने रखा और एक दूसरे से पुष्टि की। किशोरी पूरे दबाव के साथ आरोप लगा रही थी। लेकिन विधायक बचाव की मुद्रा में आरोपों को नकारते रहे। किशोरी ने यह भी कहा कि विधायक ने उसके पूरे परिवार को बर्बाद कर दिया। सीबीआइ की टीम पीडि़त किशोरी और उसके परिवार को लेकर सुबह सीबीआइ मुख्यालय पहुंची थी। 
किशोरी को चार जून को विधायक के आवास पर ले जाने का आरोप उनके ही गांव की महिला शशि सिंह पर है। शशि के खिलाफ मुकदमा भी दर्ज है। सीबीआइ ने
शशि को रिमांड पर लेकर पूछताछ कर रही थी। रिमांड की अवधि पूरी होने पर सीबीआइ ने उसे जेल भेज दिया। 
सीबीआइ दिल्ली के विशेष निदेशक फोरेंसिक राकेश अस्थाना उन्नाव कांड में मिले साक्ष्यों के संकलन के साथ ही उसकी समीक्षा भी कर रहे हैं। गुरुवार को अस्थाना ने लखनऊ के जेडी डॉ. जीके गोस्वामी समेत जांच टीम के सदस्यों के साथ साक्ष्यों को लेकर चर्चा की। ध्यान रहे कि सीबीआइ टीम पीडि़त किशोरी के पिता की हत्या के मामले में विधायक के भाई अतुल सिंह समेत अन्य आरोपियों को उन्नाव ले गई है। सीबीआइ की दो जांच टीमों ने उन्नाव में भी एक एक बिंदु की पड़ताल की।

No comments