Ad

ads ads

Breaking News

विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को CBI ने कस्टडी रिमांड ख़त्म होने से पहले ही भेजा उन्नाव जिला जेल

उन्नाव। रेप केस के आरोपी बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर
व शशि सिंह को आज दोपहर 1:00 बजे कस्टडी रिमांड खत्म होने से तीन घंटा पहले ही सीबीआई ने उन्नाव जिला कारागाह में करीब दस बजे आमद करा दी। सीबीआई टीम ने दोनों का लखनऊ से ही मेडिकल कराकर लाई थी। दोनों आरोपियों को न्यायिक कस्टडी में देने के साथ सीबीआई अब संबंधित कागजात कोर्ट में पेश करेगी।
आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर की पुलिस कस्टडी रिमांड आज दोपहर एक बजे पूरी हो गई । बताया जा रहा है कि सीबीआई विधायक को जेल में दाखिल कराने के बाद अब कोर्ट से अनुमति लेकर   उनका पोटेंसी टेस्ट कराएगी। उन्नाव कांड में बांगरमऊ के भाजपा विधायक कुलदीप सिंह पर पीडि़त किशोरी से दुष्कर्म के आरोपित हैं। इस मामले में सीबीआई ने विधायक व आरोपित शशि सिंह के खिलाफ दुष्कर्म पॉक्सो एक्ट सहित अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है। विधायक को पुलिस कस्टडी रिमांड पर लेकर पूछताछ करने के दौरान सीबीआइ ने उनका कई बार मेडिकल परीक्षण कराया है। अब सीबीआइ विधायक का पोटेंसी टेस्ट भी कराएगी।
उन्नाव कांड में सीबीआई ने आरोपित भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर का श्मर्दानगी परीक्षण पोटेंसी टेस्ट भी कराएगी। सीबीआइ टीम गुरुवार को केजीएमयू के यूरोलॉजी विभाग गई थी। लेकिन वहां टेस्ट की सुविधा न होने की जानकारी मिलने पर उसे बैरंग लौटना पड़ा।
केजीएमयू व लोहिया अस्पताल में इसकी सुविधा नहीं है।  बताया जा रहा है कि सीबीआई अब विधायक का यह टेस्ट पीजीआई अथवा एम्स में करा सकती है। सूत्रों का कहना है कि विधायक पर दुष्कर्म मामले में शिकंजा कसता नजर आ  रहा है। यही वजह है कि सीबीआइ अपनी जांच के दौरान किसी चूक की गुंजाइश नहीं छोडऩा चाहती। ताकि आरोपित विधायक बाद में कोर्ट में इसे मुद्दा बनाकर बचत का रास्ता न निकाल सकें।
उल्लेखनीय है कि दुष्कर्म के मामले में उम्रकैद की सजा पा चुके आसाराम बापू ने ट्रॉयल के दौरान अपनी यौन क्षमता को आधार बनाकर बचने का प्रयास किया था। बाद में उनका पोटेंसी टेस्ट कराया गया था। जिसका परिणाम पाजिटिव था। ऐसे ही बसपा शासनकाल में तत्कालीन विधायक पुरुषोत्तम नरेश द्विवेदी ने भी उन पर लगे दुष्कर्म के आरोप के दौरान इसे मुद्दा बनाकर बचने की कोशिश की थी। दूसरी ओर सीबीआई आरोपित शशि सिंह से भी पूछताछ कर रही है। उन्नाव कांड में अब तक सामने आए तथ्यों की सिलसिलेवार जांच कर साक्ष्य जुटाने के प्रयास किए जा रहे हैं। सीबीआइ को दो मई को हाई कोर्ट में अपनी स्टेटस रिपोर्ट दाखिल करनी है।

No comments