Ad

style="width:640px;height:100px;" alt="ads" /> ads

Breaking News

यूपी की धवस्त हुई कानून व्यवस्था के चलते महिला ने लगाई फांसी

मुजफ्फरनगर - यूपी के लाचार प्रशासन से तंग आकर एक बेबस दलित महिला ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। घटना के बाद पुलिस विभाग में हड़कंप मच गया। मौके पर पहुंची पुलिस ने मृतका के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।  मृतका के परिजनों का आरोप है कि महिला के साथ गांव के ही कुछ लोगों ने छेड़छाड़ की थी।  जिसकी शिकायत करने महिला अपने पति और बेटे सहित थाने गई थी। जहां पुलिस ने महिला की शिकायत तो नहीं सुनी पर उसके पति और बेटे को एक पुराने मामले में कोर्ट से आए गैर जमानती वारंट के आधार पर गिरफ्तार कर लिया। इसी से दुखी होकर महिला ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली।
ये घटना फुगाना क्षेत्र के गांव रायपुर अटेरना की है। जहा बताया जा रहा है कि देवीचंद नाम के शख्स का उसके भाई रोहिला से रास्ते को लेकर एक पुराना विवाद चल रहा था। इसी विवाद के चलते गुरुवार को देवीचंद की पत्नी ने यूपी डायल 100 में शिकायत दर्ज कराकर रोहिला पर छेड़छाड़ का आरोप लगाया था। महिला की शिकायत के बाद डायल 100 की गाड़ी मौके पर पहुंची तो सही लेकिन पीड़िता की शिकायत को झूठी बताकर मामला रफा दफा कर दिया।  इतना ही नहीं पुलिस ने रोहिला पक्ष की तरफ से मृतक महिला के परिवार पर दर्ज कराए गए पुराने मामले में कोर्ट से आए गैर जमानती वारंट के आधार पर उसके पति और बेटे को गिरफ्तार कर लिया। 
इसके बाद मृतक महिला ने अपने पति और बेटे को छुड़ाने की बहुत कोशिश की लेकिन जब पुलिस ने एक न सुनी तो उसने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली।  महिला के आत्महत्या करते ही पुलिस विभाग में हड़कंप मच गया। मामले में एसएसपी अनंत देव तिवारी ने कार्यवाही करते हुए फुगाना थाने के दरोगा सुभाषचंद को लापरवाही करने के आरोप में सस्पेंड कर दिया। पुलिस ने महिला से छेड़छाड़ के आरोपी सुभाष व प्रदीप को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। और पूरे मामले की छानबीन करने के आदेश दे दिए हैं।  वहीं बुढाना पुलिस ने महिला की आत्महत्या के मामले में भी मुकदमा दर्ज करते हुए कार्रवाई शुरु कर दी है।

No comments