Ad

ads ads

Breaking News

2019 की योगी ने बनाई रणनीति, यूपी कैबिनेट में पिछड़ों को दे सकते है जगह

डेस्क -  यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मिशन 2019 की तैयारियों में जुट गए हैं। योगी जल्द ही कैबिनेट विस्तार व फेरबदल कर अपनी टीम में कई और पिछड़े नेताओं को शामिल कर सकते हैं। दरअसल योगी की कोशिश है कि जनता में बने अगड़ी जातियों के प्रभुत्ववाली सरकार के पर्सेप्शन को बदला जाए।
यह फेरबदल ऐसे समय में होने जा रहा है जब गोरखपुर और फूलपुर के लोकसभा चुनावों में बीजेपी को एसपी.बीएसपी गठबंधन के हाथों शर्मनाक हार मिली है। हालांकि 10 में से 9 राज्यसभा की सीटें पार्टी ने जरूर जीत लीं। सूत्रों का कहना है कि वरिष्ठ केंद्रीय मंत्रियों ने दिल्ली में बीजेपी लीडरशिप को फीडबैक दिया है कि बीजेपी ने पिछड़े समुदाय के वोटों के बल पर यूपी चुनाव में बड़ी जीत दर्ज की थी पर उनके नेताओं को पर्याप्त राजनीतिक प्रतिनिधित्व नहीं मिला।

अप्रैल में हो सकता है बदलाव
माना जा रहा है कि अप्रैल में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के यूपी दौरे के समय कैबिनेट में फेरबदल किया जा सकता है। नाम जाहिर न करने की शर्त पर बीजेपी के एक पदाधिकारी ने बताया इस समय स्टेट कैबिनेट में हमारे पास 47 मंत्री हैं और मंत्रि परिषद को बढ़ाकर 60 किया जा सकता है। करीब 13 वेकन्सीज को बैकवर्ड लीडर्स से भरा जा सकता है। अभी मंत्रि परिषद में कोई भी दलित जाटव चेहरा नहीं है.. हम ऐसे किसी एक नेता को शामिल कर सकते हैं। इतना ही नहीं पार्टी 10 MLC सीटों के लिए भी पिछड़े नेताओं को चुन सकती है।
इनको मिल सकता है प्रमोशन
मंत्रि परिषद में शामिल एक प्रमुख पिछड़े नेता राज्य मंत्री ;स्वतंत्र प्रभार स्वतंत्रदेव सिंह को प्रमोट कर फुल कैबिनट रैंक दी जा सकती है जबकि बैकवर्ड लीडर्स जैसे जीएस धर्मेश आगरा से एक विधायक  को मंत्रि परिषद में जगह मिल सकती है। बीजेपी के सहयोगी अपना दल से एक पिछड़े नेता को भी कैबिनेट में जगह मिल सकती है जबकि दूसरी सहयोगी पार्टी के ओमप्रकाश राजभर को बेहतर पोर्टफोलियो दिया जा सकता है। अपना दल की नेता अनुप्रिया पटेल और राजभर ने हाल ही में दिल्ली में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह से मुलाकात की थी।

यादव चेहरे को मिल सकती है जगह
बताया जा रहा है कि कैबिनेट में एक यादव चेहरे को भी शामिल किया जा सकता है। इसमें सबसे ज्यादा चर्चा में फैजाबाद से विधायक राम चंद्र यादव का नाम है। एक बीजेपी नेता ने कहा बीजेपी ने 2017 के चुनावों में 11 यादवों को टिकट दिया था जिसमें 9 जीते और  हरनाथ सिंह यादव को राज्यसभा भेजा जा रहा है जबकि सुभाष यादव को पिछले महीने ही बीजेपी युवा मोर्चा का प्रमुख नियुक्त किया गया है।

मंत्रियों के कार्यों की समीक्षा करेंगे योगी
अगले लोकसभा चुनाव के मद्देनजर ये कदम यादव और जाटव वोटों को पाने के लिए उठाए जा रहे हैं जो एसपी और बीएसपी का आधार रहे हैं। बीजेपी के यूपी प्रवक्ता चंद्र मोहन ने फिलहाल कैबिनेट फेरबदल पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है लेकिन इतना जरूर कहा कि सीएम आदित्यनाथ निश्चित ही अपने मंत्रियों के कार्यों का आकलन करेंगे और उसके बाद संभावित बदलावों पर पार्टी नेतृत्व फैसला ले सकता है।