Ad

ads ads

Breaking News

समर्थकों ने लगाए आरोप कहा क्या चुनाव आयोग से बड़ा अखाड़ा

उन्नाव। अखाड़ा परिषद द्वारा जारी लिस्ट में ढोंगी बाबाओ में जिलें से लोकसभा सांसद साक्षी महराज का भी नाम शामिल हो गया है। जिसके बाद तो जिले में भूचाल आ गया है  जिले में उनके समर्थकों ने इस  पर अपनी अलग अलग राय व्यक्त की । 
समर्थकों की प्रतिक्रिया बताने से पहले यह बताते चले कि अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरि के द्वारा जारी लिस्ट में दस साधू संतो की लिस्ट में साक्षी महराज का नाम भी जारी कर दिया गया। जारी लिस्ट में सांसद स्वामी सच्चिदानंद गिरी उर्फ साक्षी महराज पर 1997 में भाजपा नेता ब्रह्मदत्त द्विवेदी की हत्या, 2000 में एटा के प्रिसिंपल के साथ दुष्कर्म, फरूखाबाद में शिष्या के साथ गलत हरकत करने के आरोपों लगाए गए है। 
लोधी समाज ने साक्षी महराज के उपर अखाड़े द्वारा लगाए गए आरोपों को उनकी ख्याति को कम करने व लोधी समाज के उभरते हुए सितारे को डुबोने के उद्देश्य से लगाए गए हैं। मनीष ने बताया कि इस तरह के आरोप लगाना गलत है। उन्होने कहा कि साक्षी महराज के उपर जो भी आरोप लगाए गए है। वे गलत है। तौरा के रामलाल लोधी ने कहा कि जिस तरह से अखाड़ा परिषद ने आरोप लगाए हैं वे पहले बताए कि वे न्यायालयों के तुल्य हो गए। इस तरह के आरोप लगाया जाना खुद को प्रचलित करना हैं। मंगतखेड़ा के कौशल ने बताया कि किसी को बदनाम करना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है। बिछिया के अनुज कुमार ने कहा कि साक्षी महराज के बेबाक टिप्पणी के चलते कुछ लोगों में इष्र्या व्याप्त कर गई है। यह उसी का परिणाम है। मद्दीखेड़ा के अमरीश ने कहा कि यह आरोप वर्तमान समय लगाया जाना सांसद के खिलाफ गहरी साजिश लगती है। यदि यही आरोप लोकसभा चुनाव के दौरान यदि लगाया जाता तब तो समझ में आता। उन्होने कहा कि यदि यह आरोप सही थे तो उनका चुनाव होना रद्द हो जाना चाहिए था। लेकिन चुनाव आयोग ने ऐसा नहीं किया। इसका मतलब साबित करता है कि सांसद निर्दोष हैं। ऐसे में अखाड़ा परिषद को इस तरह के बयान नहीं देने चाहिए। आखिर अखाड़ा वाले क्या चुनाव आयोग से बड़े हो गए। 

No comments