Ad

ads ads

Breaking News

पुलिस व बदमाशों की मुठभेड़ में दरोगा घायल, बदमाश को भी लगी गोली


उन्नाव। थाना पुरवा अन्तर्गत हत्या, लूट जैसे गंभीर मामलों में वांछित इनामिया हिस्ट्रीशीटर बदमाश से बुधवार रात पुलिस की मुठभेड़ हो गई। बदमाश और उसके साथी द्वारा की गई फायरिंग में दारोगा के घायल होने पर पुलिस ने भी ताबड़तोड़ फाय¨रग की, जिसमें हिस्ट्रीशीटर भी घायल हो गया, जबकि उसका साथी भागने में सफल रहा। इस दौरान कई थानों की फोर्स ने दूसरे आरोपी को ढूंढ़ने के लिए नाकेबंदी की। लेकिन बदमाश का साथी अंधेरे का लाभ ले पुलिस को गच्चा देकर भाग निकला। घायल बदमाश और दारोगा को पहले सीएचसी फिर जिला अस्पताल ले जाया गया है।
बीती रात पुरवा पुलिस एक सातिर अपराधी को गिरफतार करने के लिए गई थी कि इसी दौरान वहाॅ से गुजर रहे सातिर अपराधी 25हजार इनामियाॅ धनराज अपने एक साथी के साथ निकला। पुलिस को देख धनराज ने पुलिस पार्टी पर अवैध पिस्टल से फायरिंग की। बदमाश चलाई गई गोली पुरवा कोतवाली में तैनात दरोगा प्रदीप सिंह के दाहिने कंधे में जा धंसी। पुलिस द्वारा की गई जवाबी फायरिंग में धनराज के पैर में गोली लगी। वहीं अधेरे का लाभ उठा उसका साथी भाग निकला। पुलिस गोली लगने से घायल धनराज व दरोगा प्रदीप सिंह को उपचार के लिए प्राथमिक स्वास्थ्य कें्रद ले गए। जिसके बाद दोनो को उपचार के लिए जिला अस्पताल लाया गया। 
पुलिस द्वार मिली जानकारी के अनुसार मौरावां थाना क्षेत्र के अकोहरी गांव निवासी धनराज लोधी हत्या लूट, डकैती समेत कई घटनाओं में अंजाम दे चुका है। उस पर पुलिस द्वारा इनाम भी घोषित किया गया था। मंगलवार रात स्वाट टीम को सूचना मिली कि शातिर हिस्ट्रीशीटर धनराज अपने साथी के साथ बिहार थाना क्षेत्र से पुरवा की ओर आ रहा है। रात नौ बजे के करीब सूचना मिलते ही पुरवा, मौरावां और असोहा समेत अन्य थानों की पुलिस ने चंदीगढ़ी टीकर नहर मार्ग पर नाकेबंदी कर दी। इसी बीच धनराज बाइक से आता दिखा, पुलिस ने उसे रोकने की कोशिश की तो फाय¨रग कर उसने बाइक की रफ्तार बढ़ा दी। पुलिस ने भी जवाबी फाय¨रग कर उसका पीछा किया। ताबड़तोड़ हो रही फायरिंग के बीच पुरवा कोतवाली के एसएसआई प्रदीप सिंह के दाहिने हाथ में गोली लग गई। उधर पुलिस की ओर से हुई फाय¨रग में हिस्ट्रीशीटर धनराज के घुटने में गोली लगी, जिससे वह बाइक से नीचे गिर गया। पुलिस उसे कस्टडी में लेती इसी बीच उसका साथी मौके से निकल गया। पुलिस मुठभेड़ में दारोगा और हिस्ट्रीशीटर के घायल होने की सूचना पर एसपी पुष्पांजलि ने सर्किल समेत अन्य थानों के फोर्स को अलर्ट कर नाकेबंदी के निर्देश दिए और खुद मौके पर रवाना हो गईं। एएसपी अष्टभुजा प्रसाद के साथ कई सीओ भी मौके की ओर भागे। पुलिस ने चप्पे-चप्पे पर फोर्स तैनात कर दी, इसके बाद भी दूसरा आरोपी हाथ नहीं लगा। देर रात एसपी घायल दरोगा को देखने जिला अस्पताल पहुंची। जहाॅ गोली दरोगा के हाथ को छूकर निकल जाने से चिकित्सकों ने घायल उपनिरीक्षक की हालत ठीक होने की बात कहीं वहीं एसपी ने पुलिस की गोली से घायल बदमाश के बारे में भी चिकित्सकों से जानकारी ली। 
हिस्ट्रशीटर धनरात को गिरफ्तार करने के बाद पुलिस घायल दरोगा और उसको इलाज के लिए जिला अस्पताल लेकर पहुंची। जिला अस्पताल में एक साथ दोनों का इलाज शुरू किया गया। मुठभेड़ स्थल की घेराबंदी के साथ आसपास थानों को अलर्ट कर पुलिस ने धनराज के साथी की खोज शुरू की है। धनराज पर मौरावां कोतवाली व अन्य थानों में लूट व हत्या के प्रयास के मामले चल रहे हैं और उस पर 25 हजार रुपए का ईनाम है। पुलिस को उसकी काफी समय से तलाश थी।
पैर में गोली लगने से घायल बदमाश धनराज को पुलिस न्यायालय  न ले जा सकी। जिसके चलते एसीजेम डाक्टर सुनील कुमार जिला अस्पताल पहुंचे। जहाॅ उन्होने घायल बदमाश को रिमांड पर पुलिस द्वारा लिए जाने को लेकर बदमाश से जानकारी ली।