Ad

ads ads

Breaking News

अन्नू को जिताने की अपील करते नजर आये पुराने जमाने के जेलर





ठुमका लगाते गोविंदा
उमड़ा जान सैलाब
उन्नाव।  इस होली पर पूर्व सांसद की संस्था एचएनडीसी ट्रस्ट और कांग्रेस ने संयुक्त रूप से यादगार बना दिया। अष्टमी के साथ भले ही होली का समापन शुक्रवार को हो गया हो, लेकिन शहर वालों की होली रविवार को पूरी हुई। विरार के छोरे हीरो नंबर गोविंदा की हंसी, ठिठोली के साथ जीआईसी मैदान में उड़ीं फूलों की पंखुड़ियों ने सभी रंगों का अहसास कराया। सब कुछ ऐसा हुआ कि लोगों के लिए यादगार बन गया।
पूर्व विधायक प्रत्याशी अंकित परिहार
वरिष्ठ कोंग्रेसी वीर प्रताप सिंह
मुस्तैद पुलिस बल
आठ मार्च से जिले के सभी विधानसभा क्षेत्रों में कांग्रेस द्वारा आयोजित किए गए होली मिलन समारोह का रविवार को समापन हुआ। इस बीच लोगों के सामने थे फिल्मी दुनिया के राजाबाबू, अनाड़ी आदि नामों से अपनी अलग पहचान जमाने वाले पूर्व सांसद गोविंदा, कुलराज बेदी ने शाम करीब सवा 7 बजे मंच पर गोविंदा के पहुंचने की घोषणा की तो भीड़ ने भी हीरो नंबर वन का गर्मजोशी से स्वागत किया। गो¨वदा ने भी उत्साह से लवरेज श्रोताओं में होली की उमंग और उत्साह का रस घोलने का पूरा प्रयास किया। करीब 50 मिनट की प्रस्तुतियों में उन्होंने लाल दुपट्टे वाली तेरा नाम तो बता से शुरुआत की, तो उनके साथ रहे डांस ग्रुप ही नहीं सामने खड़े श्रोता भी झूम उठे। माहौल का समझते हुए उन्होंने यूपी वाला ठुमका लगाऊं या हीरो जैसा नाच के दिखाऊं..। अंगना में बाबा दुवारे पर मां कैसे आऊं..। इसके बाद उन्होंने अपने दिवाने का कर दे बुरा हाल रे अखियों से गोली मारे..। जैसी गानों के साथ खुद भी थिरकते हुए होली का उल्लास जगा दिया। आखिर में उन्होंने अपनी ही फिल्म के टाइटल जैसी करनी वैसी भरनी..। गीत के माध्यम से लोगों को संस्कार और माता पिता के महत्व को बताते हुए प्रस्तुतियों का समापन कर दिया।
गोविंदा के ठुमकों पर थिरके लोग
- लगभग पचास मिनट के स्टेज प्रोग्राम पर फिल्म स्टार गोविंदा,ने अपने अंदाज में जमकर ठुमके लगाए। हाल यह था कि मंच पर उनका साथ दे रहे डांस ग्रुप की प्रस्तुती कमजोर पड़ने लगी। जिस पर उन्होंने ग्रुप को अपने अंदाज में सुझाव देते रंग जमा दिया। उनके ठुमकों को देख भीड़ भी ठुमके लगाती नजर आई।

No comments